हड़ताल में गए कच्चे कर्मचारी होंगे टर्मिनेट, 50 साल से ऊपर के पक्के कर्मियों पर भी गिर सकती है गाज / हड़ताल में गए कच्चे कर्मचारी होंगे टर्मिनेट, 50 साल से ऊपर के पक्के कर्मियों पर भी गिर सकती है गाज

Karnal News - हरियाणा रोडवेज की हड़ताल में सरकार एक बार फिर से सख्ती के मूड में है। रोडवेज जीएम के पास पहुंचे ऑर्डर में हड़ताल में...

Bhaskar News Network

Nov 02, 2018, 04:32 AM IST
Karnal - strike workers in the strike will be terminates even the permanent personnel above 50 years may fall
हरियाणा रोडवेज की हड़ताल में सरकार एक बार फिर से सख्ती के मूड में है। रोडवेज जीएम के पास पहुंचे ऑर्डर में हड़ताल में गए कर्मचारियों को अलर्ट कर दिया है। इसमें क्लियर है कि शुक्रवार तक ड्यूटी पर लौटने वाले कर्मचारियों काे छुट्टी मानकर कार्य करवाया जाए। उन पर किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं होगी। जो कर्मचारी ड्यूटी ज्वाइन नहीं करते हैं उन पर गाज गिरनी तय है। कच्चे कर्मचारियों को टर्मिनेट और 50 साल से ऊपर के पक्के कर्मचारियों को रिटायरमेंट की गाज गिर सकती है। रोडवेज के करीब 400 कर्मचारी हड़ताल में शामिल हैं। 150 कर्मचारियों की उम्र 50 साल से ऊपर और 70 कर्मचारी कच्चे हैं। रोडवेज हड़ताल के चलते गुरुवार को दिनभर बसों के चक्कर लगते रहे। इससे सवारियों को किसी प्रकार की परेशानी नहीं हुई। कर्ण पार्क में धरने पर रोडवेज कर्मचारियों ने हरियाणा दिवस को काला दिवस के रूप में मनाया। किलोमीटर स्कीम की 720 बसों के विरोध में सरकार के खिलाफ मुर्दाबाद के नारे लगाए गए। कर्मचारियों ने चेतावनी दी कि वह सरकार की धमकियों से डरने वाले नहीं हैं। रोडवेज का निजीकरण किसी सूरत में नहीं होने दिया जाएगा।

करनाल. अपनी मांगों को लेकर सरकार के खिलाफ काले कपड़े पहन नारेबाजी करते रोडवेज के कर्मचारी।

करनाल. अपनी मांगों को लेकर सरकार के खिलाफ काले कपड़े पहन नारेबाजी करते रोडवेज के कर्मचारी।

142 रोडवेज और 67 प्राइवेट बसें चली, रात को सर्विस नहीं

हड़ताल के चलते रोडवेज की 142 बसें और 67 प्राइवेट बसें निर्धारित टाइम पर दौड़ती रही। हरियाणा दिवस पर सरकारी छुट्टी होने के कारण भी स्टूडेंट्स नहीं आए। इसलिए बसों में सवारियों काे बेहतर सफर मिला। शुक्रवार को फिर से बसें ओवरलोड हो जाएंगी, क्योंकि स्टूडेंट्स के टाइम बसों के अधिक चक्कर लगवाने की जरूरत है। रात को सफर नहीं मिल रहा है। सात बजे के बाद रोडवेज बसें नहीं चलती।

कर्मचारियों से अपील है कि वह ड्यूटी पर लौट आएं


इन कर्मियों को नहीं रखा जाएगा ड्यूटी पर

कानूनी पहलु के अनुसार जिन रोडवेज के 37 कर्मचारियों पर केस दर्ज है, जो 16 कर्मचारी टर्मिनेट हैं या जिनको सस्पेंड किया गया है उनको छोड़कर अन्य कर्मचारी ड्यूटी ज्वाइन कर सकते हैं। इनके पास शुक्रवार का दिन ऑपन है। इसके बाद सरकार किसी भी तरह की सख्त कार्रवाई कर सकती है।

X
Karnal - strike workers in the strike will be terminates even the permanent personnel above 50 years may fall
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना