• Home
  • Haryana News
  • Kharkhoda
  • प्राध्यापक हत्याकांड मामले में शिक्षण कार्य का बहिष्कार कर जताया रोष
--Advertisement--

प्राध्यापक हत्याकांड मामले में शिक्षण कार्य का बहिष्कार कर जताया रोष

खरखौदा के राजकीय महाविद्यालय में दिनदहाड़े प्राध्यापक की गोली मारकर हत्या किए जाने की घटना से प्राध्यापक वर्ग में...

Danik Bhaskar | Mar 15, 2018, 02:50 AM IST
खरखौदा के राजकीय महाविद्यालय में दिनदहाड़े प्राध्यापक की गोली मारकर हत्या किए जाने की घटना से प्राध्यापक वर्ग में बेहद रोष है। बुधवार को बैनर तले प्राध्यापकों ने शिक्षण कार्य का बहिष्कार कर घटना को लेकर अपना विरोध दर्ज करवाया। एक दिवसीय धरने के उपरांत प्रशासन से मांग की है कि शिक्षण संस्थाओं में पर्याप्त सुरक्षा मुहैया करवाई जाए। एसोसिएशन प्रधान रेणु मदान ने स्पष्ट शब्दों में कहा कि यदि हालात में सुधार नहीं हुआ तो संस्थाओं में शिक्षण कार्य करना असंभव हो जाएगा। उन्होंने कहा कि खरखौदा में प्राध्यापक राजेश मलिक की बेरहमी से हत्या की गई है। जिसके हत्यारों को कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए। इस दौरान संगीता सपड़ा, शर्मिला, दिलबाग जाखड़, सुभाष सिसोदिया, राजेश भारद्वाज एवं नरेश आंतिल आदि उपस्थित रहे।

‘प्रदेश में अराजकता का माहौल’

सोनीपत | प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पदाधिकारियों की बुधवार को भीम नगर कार्यालय में बैठक हुई। जिसमें प्रदेश और जिले में बढ़ क्राइम रिकार्ड पर विचार विमर्श किया गया। बैठक में कांग्रेस कमेटी के सचिव डा. सत्यवीर निर्माण ने कहा कि जिले में क्राइम का ग्राफ लगातार बढ़ रहा है। भाजपा सरकार क्राइम को रोकने में पूरी तरह से असफल हो रही है। यमुनानगर में दिन दहाड़े गोली मारी गई, इसके बाद अब खरखौदा की घटना ने भाजपा की कानून व्यवस्था पर पकड़ का अपने आप की उदाहरण प्रस्तुत कर रही है। मुख्यमंत्री को अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। बैठक में मोनू शर्मा, विशाल हरित, विक्रांत आदि रहे।