• Home
  • Haryana News
  • Kharkhoda
  • राठधना रोड से रोहतक रोड बाईपास के जमीन अधिग्रहण का नोटिस पीरियड खत्म
--Advertisement--

राठधना रोड से रोहतक रोड बाईपास के जमीन अधिग्रहण का नोटिस पीरियड खत्म

मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर द्वारा घोषित राठधना टू रोहतक रोड बाईपास के निर्माण की प्रक्रिया अब जमीनी स्तर पर...

Danik Bhaskar | Mar 28, 2018, 02:55 AM IST
मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर द्वारा घोषित राठधना टू रोहतक रोड बाईपास के निर्माण की प्रक्रिया अब जमीनी स्तर पर जमीन अधिग्रहण के साथ शुरू हो चुकी है। एनएचएआई द्वारा बाईपास के लिए चिन्हित जमीन के अधिग्रहण का नोटीफिकेशन के बाद सेक्शन-6 की तैयारी शुरू कर दी है।

बाईपास जीटी रोड से जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी के साथ राठधना में ड्रेन नंबर-6 के पास शुरू किया जाएगा। जो रोहतक रोड पर रोहट के पास मिलेगा। इस बाईपास से शहरवासियों को अनावश्यक जाम से राहत मिलेगी, साथ ही बाहरी वाहनों को बगैर शहर में प्रवेश किए ही बाहर ही बाहर जाने का रास्ता मिल सकेगा। जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया नए कानून के तहत की जाएगी। बाईपास की कुल लंबाई साढ़े पांच किलोमीटर है।

भूमि अधिग्रहण एक्ट 1556 के तहत होगा अधिग्रहण

नेशनल हाईवे अथॉरिटी आॅफ इंडिया के वरिष्ठ अधिकारियों की मानें तो जमीन अधिग्रहण के लिए दो मार्च को नोटीफिकेशन जारी किया गया था। इसके 21 दिन के अंदर जमीन से संबंधित लोग आपत्तियां दर्ज करा सकते हैं। जिसके तहत 23 मार्च को यह अवधि पूरी हो गई है। अब एनएचएआई द्वारा आपत्तियों का जवाब दिया जाएगा। जिसके बाद 3डी (सेक्शन-6) लगाया जाएगा। इसमें जमीन मालिकों का जमीन के साथ नाम छपेगा। अगर नाम में कोई खामी है तो मालिक सात दिन में इसे ठीक करा सकता है। जिसके बाद अवार्ड कर दिया जाएगा। यह प्रक्रिया भूमि अधिग्रहण एक्ट 1556 के तहत किया जाएगा।

सोनीपत . राठधना रोड टू रोहतक रोड बाईपास।

बाहरी वाहनों को होगा लाभ

रोहतक रोड पर जाने वाले बाहरी वाहनों के कारण शहर में लगने वाले जाम से लोगों को निजात मिलेगी। साथ ही कई राज्यों के वाहन चालकों की परेशानी भी कम हो जाएगी क्योंकि किसी को नेशनल हाईवे से रोहतक व खरखौदा होते प्रदेश के किसी अन्य जिले या राजस्थान जाना होगा तो सोनीपत के अंदर आने की जरूरत नहीं होगी।

80 एकड़ का अधिग्रहण होगा

नेशनल हाईवे को रोहतक रोड से साढ़े पांच किमी का बाईपास को बनाने के लिए जमीनी स्तर पर कार्य शुरू हो चुका है। यह बाईपास राठधना के 6 गांवों की 80 एकड़ जमीन को अधिग्रहण कर बनाया जाएगा। इसके बीच छह पुल पुलिया सहित दिल्ली-अंबाला रेलवे ट्रैक पर एक बड़े साइज का आरओबी भी बनाया जाएगा।

जाम से मिलेगी निजात

एनजीटी के एतराज जताने के बाद राजस्थान समेत हरियाणा के गुड़गांव, फरीदाबाद, रेवाड़ी, झज्जर आदि जिलों में जाने वाले बड़े वाहन दिल्ली की जगह सोनीपत से रोहतक रोड होते हुए निकलते हैं। यह सभी वाहन नेशनल हाईवे से होकर शहर से होते हुए रोहतक रोड पर पहुंचते हैं, जिससे शहर में जाम की स्थिति रहती है। शहर में कई बार काफी लंबा जाम लग जाता है और उसमें वाहन चालकों को कई घंटे तक फंसना पड़ता है। शहर से इस जाम को खत्म करने के साथ ही समस्या को दूर करने के लिए शहर के बाहर फोरलेन बाईपास बनाने का फैसला लिया है।

दो महीने में सभी प्रक्रिया पूरी कर टेंडर लगाया जाएगा


इन गांवों से होकर गुजरेगा बाईपास

राठधाना से लेकर जीटी रोड तक पहले ही बाईपास बना है। इसमें छह गांवों की लगभग 80 एकड़ जमीन अधिग्रहण किया जाएगा। जिसमें बैंयापुर गांव की साढ़े 13 एकड़, हरसाना कलां की साढ़े 32 एकड़, हरसाना खुर्द की लगभग साढ़े 13 एकड़, नसीरपुर बांगड़ की लगभग 14 एकड़, जगदीशपुर की साढ़े 11 एकड़ और राठधना की सवा दो एकड़ जमीन अधिग्रहण की जाएगी। जिसकी लंबाई लगभग साढ़े पांच किलोमीटर है।