• Home
  • Haryana News
  • Kharkhoda
  • रेगुलाइजेशन पाॅलिसी रद्द करने का बिजली कर्मचारियों ने किया विरोध
--Advertisement--

रेगुलाइजेशन पाॅलिसी रद्द करने का बिजली कर्मचारियों ने किया विरोध

बिजली निगम खरखौदा कार्यालय के परिसर में मंगलवार को गेट मीटिंग हुई। अध्यक्षता सब यूनिट प्रधान प्रतीक पाराशर ने...

Danik Bhaskar | Jun 06, 2018, 02:40 AM IST
बिजली निगम खरखौदा कार्यालय के परिसर में मंगलवार को गेट मीटिंग हुई। अध्यक्षता सब यूनिट प्रधान प्रतीक पाराशर ने की। उन्होंने कहा कि 2014 की पॉलिसी रद्द की गई है। कोर्ट में सरकार द्वारा सही पैरवी की जाती तो कर्मचारियों को राहत भरा फैसला मिलता। जिला उप प्रधान राममेहर शर्मा ने कहा कि अगर सरकार चाहे तो इन कर्मचारियों की नौकरी बचा सकती है। फायर ब्रिगेड प्रधान संदीप ने बताया कि आने वाले समय में अगर सरकार द्वारा सही कदम नहीं उठाए गए तो कर्मचारी आंदोलन करेंगे। हरियाणा कर्मचारी यूनियन की मांगों को नहीं माना गया तो सरकार को आंदोलन का सामना करना पड़ेगा। इस मौके पर उप प्रधान राममेहर शर्मा, सर्कल सेक्रेटरी सुकेंद्र सिंह, सब यूनिट प्रधान सतपाल खत्री, कृष्ण जेई, बलवान जेई, सज्जन एएफएम, धर्मबीर एसएसए, संजय सीए, राजेंद्र एएफएम, दयानंद लाइनमैन, सतपाल, लाइनमैन, मंजीत, अमित, सहित विभिन्न सदस्य उपस्थित थे।

खरखौदा. बिजली निगम कार्यालय में मीटिंग करते कर्मचारी।

कर्मियों का पक्ष सही तरीके से नहीं रखने का आरोप

सोनीपत| इंद्रा कॉलोनी स्थित पुराने पावर हाउस परिसर में मंगलवार को हरियाणा इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड वर्कर्स यूनियन के बैनर तले बिजली कर्मचारियों ने गेट मीटिंग की। मीटिंग की अध्यक्षता यशपाल भनवाला ने की तथा संचालन शीशपाल दहिया ने किया। उन्होंने सरकार पर कच्चे कर्मचारियों के केस में सही पैरवी ने करने का आरोप लगाया। साथ ही सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन भी किया। यशपाल ने कहा कि सरकार ने बिजली निगम को ट्रेनिंग सेंटर बनाकर रख दिया है। हर रोज नए-नए प्रयोग से बिजली निगम को काफी नुकसान हो रहा है। इसके बावजूद सरकार कोई ध्यान नहीं दे रही है। उन्होंने कहा कि सरकार ने कच्चे कर्मचारियों के केस ही हाईकोर्ट में सही पैरवी नहीं की। इस कारण हाईकोर्ट ने पॉलिसी को रद्द कर दिया। उन्होंने कहा कि अगर सरकार ने जल्द ही अपनी नीतियों में बदलाव नहीं किया तो यूनियन आंदोलन करने पर मजबूर होगी। इस मौके पर रामनिवास दूहन, हरपाल, सुमित, वेद मलिक, रमेश, सतीश, मदन मोहन, विश्वेंद्र, देवेंद्र आदि मौजूद रहे।