• Home
  • Haryana News
  • Kharkhoda
  • अनुज सबसे कम उम्र के पार्षद व आजाद सबसे उम्रदराज पार्षद बने
--Advertisement--

अनुज सबसे कम उम्र के पार्षद व आजाद सबसे उम्रदराज पार्षद बने

खरखौदा नगरपालिका चुनाव के बाद 13 पार्षद वोटों के माध्यम से बने हैं, जबकि वार्ड 12 वनदीप उर्फ हैप्पी व 8 से रिंपल देवी...

Danik Bhaskar | May 24, 2018, 02:40 AM IST
खरखौदा नगरपालिका चुनाव के बाद 13 पार्षद वोटों के माध्यम से बने हैं, जबकि वार्ड 12 वनदीप उर्फ हैप्पी व 8 से रिंपल देवी सर्वसम्मति से पार्षद बनकर नगरपालिका में पहुंचे हैं। सभी कुल 15 नव निर्वाचित पार्षदों में वार्ड 2 से पार्षद बने अनुज दहिया सबसे कम उम्र 23 वर्ष की आयु में पार्षद बन गए हैं जो अब तक नगरपालिका में सबसे कम उम्र के पार्षद बनकर पहुंचे हैं। जो बीएड के विद्यार्थी भी हैं जो फिलहाल अंतिम चरण में शिक्षा चली हुई है। जबकि वार्ड 15 से युवा कांग्रेस नेता पवन खरखौदा के पिता आजाद सिंह भोरिया नगरपालिका में इस बार सबसे अधिक उम्रदराज पार्षद है। उनकी उम्र लगभग 63 वर्ष है। इसी तरह से वार्ड संख्या 8 से सर्वसम्मति से पार्षद बनी रिंपल देवी सबसे अधिक पढ़ी लिखी, पार्षद हैं, जो एम.ए बी.एड पास है। रिंपल देवी पांच वर्ष खरखौदा नगरपालिका में बतौर चेयरपर्सन रह चुकी है। कुल सभी 15 नव निर्वाचित पार्षदों को अभी तक शपथ ग्रहण नहीं कराई है। आयोग की हिदायतों के मुताबिक शपथ ग्रहण कराई जानी है। खरखौदा में सामान्य श्रेणी का चेयरमैन बनाने के लिए नोटिफिकेशन हो चुका है। एसडीएम विजय सिंह का कहना है कि पार्षदों को शपथ दिलाने संबंधी अभी कोई निर्देश जारी नहीं हुए हैं। जैसे ही निर्देश जारी होंगे, शपथ दिलाई जाएगी।

नपा चुनाव : चेयरमैन के लिए चल रहा जोड़-तोड़

हाल ही में खरखौदा में चेयरमैन सामान्य श्रेणी से होना है इसके लिए नोटीफिकेशन हो चुका है। जिसमें सभी 15 पार्षद चेयरमैन के लिए पार्षद है। लेकिन वार्ड संख्या 1 से संजीत उर्फ ढोल, वार्ड संख्या 3 से कमला देवी, वार्ड 4 से मोहन, वार्ड 8 से पूर्व प्रधान रिंपल देवी, वार्ड 11 से वनदीप, वार्ड 13 से सीमा व वार्ड संख्या 15 से आजाद भोरिया चेयरमैनी पद के लिए दावेदारी दिखा रहे हैं। खरखौदा शहर में पार्षदों की खरीद-फरोख्त की पूरी चर्चा है। पिछले चुनावों में भी खरीद-फरोख्त की चर्चाओं से माहौल गर्म रहा था। जिन पूर्व पार्षदों का नाम खरीद-फरोख्त की चर्चा में आया जनता ने उन्हें पार्षद तक नहीं बनाया।