• Home
  • Haryana News
  • Kharkhoda
  • नामांकन रद्द हाेने से बिफरे उम्मीदवार चुनाव आयोग में करेंगे शिकायत
--Advertisement--

नामांकन रद्द हाेने से बिफरे उम्मीदवार चुनाव आयोग में करेंगे शिकायत

नगरपालिका चुनाव के मद्देनजर जिन तीन नामांकनकर्ताओं के नामांकन रद्द किए हैं, वे अब रद्द हुए नामांकनों के खिलाफ...

Danik Bhaskar | May 07, 2018, 02:45 AM IST
नगरपालिका चुनाव के मद्देनजर जिन तीन नामांकनकर्ताओं के नामांकन रद्द किए हैं, वे अब रद्द हुए नामांकनों के खिलाफ चुनाव आयोग में जाने की तैयारी कर रहे हैं। सोमवार को खरखौदा एसडीएम कार्यालय से रद्द नामांकनों के आदेश लेकर मामले की शिकायत सीएम विंडो के माध्यम से चुनाव आयोग को भेजेंगे। रद्द हुए नामांकनकर्ताओं का आरोप है कि आरओ ने गलत तरीके से नामांकन रद्द किए हैं। जबकि जो आधार नामांकन रद्द करने के लिए बनाए गए हैं, ऐसी स्थिति के आधारों वाले प्रत्याशी प्रदेश की विभिन्न नगरपालिकाओं में चुनाव लड़ रहे हैं।

उन्हाेंने कहा कि एक प्रदेश में एक स्थिति की दो व्यवस्थाएं क्यों की गई है, प्रदेश की विभिन्न नगरपालिकाओं में चल रहे चुनावों के दौरान संबंधित आरओ ने त्रुटियों को मौके पर बुलाकर ठीक करवाया जबकि खरखौदा में नो-ड्यूज होते हुए भी उनके नामांकन रद्द के गए हैं। इसी तरह से वार्ड संख्या 2 से चुनाव लड़ रहे प्रत्याशी अजीत सैनी का कहना है कि उनके पिता के नाम में मिस्टेक थी जिसका उन्होंने शपथ पत्र भी साथ संलग्न किया था, लेकिन इसके बावजूद भी उनका नामांकन रद्द किया गया है। जबकि नामांकन रद्द करने के ये कानूनी अधिकार नहीं है। अमित कुमार दुआ का कहना है कि उनका फार्म भी बेवजह से रद्द किया गया है, जबकि छंटनी के दौरान उनका फार्म ओके बताया था, लेकिन बाद में रिजेक्ट लिस्ट में डाला गया। जबकि वे सरकार की सभी हिदायतें पूरी करते हैं।

उधर पूर्व पार्षद मैक्सीन का कहना है कि उनका फार्म रद्द करने की मंशा के कारण रात्रि को नगरपालिका दफ्तर खुलवाया गया। दस्तावेजों की छंटनी के दौरान उन्होंने केस शुरू कर दिया और उन्हें उनका वकील करने का भी मौका नहीं दिया। नगरपालिका अधिकारियों व कर्मचारियों से बार बार रिपोर्ट बनवाई ताकि उनका फार्म रद्द किया जा सके। उन्हें चुनाव आयोग में शिकायत करने के लिए नामांकन रद्द करने का प्रमाण पत्र भी नहीं दिया जा रहा है। इसकी शिकायत वे अब सीएम विंडो के माध्यम से चुनाव आयोग को करेंगे।

इस मामले में कुशल कटारिया, चुनाव अधिकारी, खरखौदा का कहना है कि छंटनी के दौरान ही एक नामांकनकर्ता के बकाया की जानकारी मिली थी। इसकी उसी दिन जांच कराई गई और नामांकन रद्द किया गया।