• Home
  • Haryana News
  • Kharkhoda
  • जेल मंे बंद गैंगस्टर रवि के पिता की खेत से लौटते हुए चार गोली मारकर की हत्या
--Advertisement--

जेल मंे बंद गैंगस्टर रवि के पिता की खेत से लौटते हुए चार गोली मारकर की हत्या

खरखौदा के बरोणा गांव में रविवार सुबह 8 बजे गैंगवार के चलते जेल में बंद गैंगस्टर रवि उर्फ लांबा के 52 वर्षीय पिता अतर...

Danik Bhaskar | Jul 09, 2018, 02:45 AM IST
खरखौदा के बरोणा गांव में रविवार सुबह 8 बजे गैंगवार के चलते जेल में बंद गैंगस्टर रवि उर्फ लांबा के 52 वर्षीय पिता अतर सिंह की खेतों से घर लौटते समय गोली मारकर हत्या कर दी। बाइक पर आए 3 हमलावरों में से दो ने हेलमेट पहने थे, जबकि एक ने नकाबपोश। मृतक के बेटे जोगिंद्र उर्फ सोनू की शिकायत पर पुलिस ने बरोणा गांव निवासी मुनिया समेत कई लोगों पर केस दर्ज किया है।

सोनू ने बताया कि वह टैक्सी चलाता है। रविवार को जब वह गली से गुजर रहा था तो उसने देखा उसका पिता अतर सिंह खेतों से आ रहा है। इसी दौरान बाइक पर आए 3 हमलावरों ने बाइक साइड में लगाकर पीछे से उसके पिता पर फायरिंग कर दी। इस दौरान उसके पिता को एक गोली सिर में, दो कमर में और एक गोली बाजू में लगी। हमलावरों को पकड़ने के लिए वह उनके पीछे भी दौड़ा तो वे फरार हो गए।

मृतक अतर सिंह

िसर्फ वही नकारात्मक खबरें, जो आपको जानना जरूरी हैं

बरोणा गांव के मुनिया से

चल रही थी रंजिश

जोगिंद्र उर्फ सोनू ने बताया कि उसका भाई रवि उर्फ लंबा फरीदाबाद जेल में बंद है। जिसके साथ बरोणा गांव निवासी मुनिया रंजिश रखे है। डेढ़ साल पहले मुनिया के भाई की गांव में हत्या कर दी थी। इसमें लांबा का हाथ होने का आरोप लगाया था। मुनिया ने उसके परिवार को खत्म करने की धमकी दी थी।

भाजपा शहरी प्रधान के लापता बेटे का नहर से शव बरामद

भास्कर न्यूज | टोहाना

भाजपा के शहरी प्रधान एडवोकेट सुभाष गर्ग का बेटा बीती रात घर से लापता हो गया था। तलाश के दौरान उसकी चप्पल चंडीगढ़ रोड पर भाखड़ा नहर किनारे उसकी चप्पल मिली। रविवार शाम को उसका शव रतिया के पिलछियां गांव के पास नहर से बरामद की है।

परिजनों के अनुसार 28 वर्षीय सौरभ गर्ग एम. टेक की पढ़ाई कर रहा था तथा पिछले कुछ समय से वह दिमागी तौर पर डिप्रेशन में रहता था और उसका उपचार चल रहा था। पड़ोस के सीसीटीवी फुटेज से पता चला कि वह रात एक बजकर 35 मिनट पर निकलता दिखाई दिया। करीब पौने पांच बजे परिजनों की नींद खुली तो देखा कि वह चारपाई पर नहीं था। इसके बाद उसकी तलाश शुरू की गई थी।