• Home
  • Haryana News
  • Kharkhoda
  • चंडीगढ़ में हुआ ड्राॅ, हर पार्षद चेयनमैन के लिए होगा पात्र, सामान्य श्रेणी में आई प्रधानी
--Advertisement--

चंडीगढ़ में हुआ ड्राॅ, हर पार्षद चेयनमैन के लिए होगा पात्र, सामान्य श्रेणी में आई प्रधानी

13 मई को प्रस्तावित नगर पालिका चुनाव में इस बार प्रधानी सामान्य श्रेणी में रहेगी। मंगलवार को अध्यक्ष पद के लिए...

Danik Bhaskar | May 02, 2018, 02:45 AM IST
13 मई को प्रस्तावित नगर पालिका चुनाव में इस बार प्रधानी सामान्य श्रेणी में रहेगी। मंगलवार को अध्यक्ष पद के लिए चंडीगढ़ में हुए ड्रा में तय किया गया। ऐसे में सभी 15 वार्डों से बने पार्षदों में से हर पार्षद चेयरमैन पद के लिए पात्र है। चुनाव इससे बाद अब और रोचक हो गया है।

कई उम्मीदवारों ने मंगलवार को अपना नामांकन केवल इसलिए रोक लिया था कि अगर सामान्य श्रेणी के लिए प्रधान पद आरक्षित नहीं होता है तो वे नामांकन नहीं करेंगे। लेकिन अब 2 मई को अंतिम दिन सामान्य श्रेणी के नामांकनों में बढ़ोतरी हो सकती है। नगर पालिकाओं के तय चुनावों और अध्यक्ष पद को आरक्षित करने के लिए चंडीगढ़ मुख्यालय में अहम बैठक मंगलवार को बुलाई गई थी। इसमें ड्रा से प्रधान पद आरक्षित किए गए। खरखौदा नगरपालिका में इससे पहले 4 बार चुनाव हो चुके हैं। चार बार हुए चुनाव में 3 महिलाओं सहित कुल 9 पार्षदों ने नगरपालिका प्रधान पद का स्वाद चखा है। पूर्व चेयरमैन रामकंवार सैनी, रिंपल देवी व रोशनी देवी ही ऐसे प्रधान बने हैं, जिन्होंने पूरे पांच-पांच वर्ष प्रधान पद बनाए रखा। जबकि बाकी 7 प्रधान तू चल मैं आया वाली स्थिति में प्रधान पद पर रहे। सबसे पहले नगरपालिका प्रधान होने का गौरव भरथू चेयरमैन को मिला था जो वर्ष 1993 में पहले चुनाव में सामान्य सीट होते हुए भी वे प्रधान बनने में सफल हुए थे। खरखौदा में पहला नगरपालिका चुनाव वर्ष 1993 में हुआ। जिसमें ड्रा के माध्यम से चेयरमैन का पद सामान्य श्रेणी के लिए आया। जिसमें सामान्य वर्ग से न होकर एस सी श्रेणी से संबंध रखने वाले समाज सेवी भरतू चेयरमैन बने। जो करीब अढ़ाई वर्ष तक चेयरमैन रहे।