--Advertisement--

भाभी का ताना सुन नौटंकी से विवाह रचाने का लक्ष्य

छपड़ेश्वर में चल रहे सांग के दौरान विष्णु दत्त और ओमप्रकाश ने श्रोताओं को फूल सिंह व नौटंकी का सांग सुनाते हुए...

Dainik Bhaskar

Jul 28, 2018, 02:55 AM IST
भाभी का ताना सुन नौटंकी से विवाह रचाने का लक्ष्य
छपड़ेश्वर में चल रहे सांग के दौरान विष्णु दत्त और ओमप्रकाश ने श्रोताओं को फूल सिंह व नौटंकी का सांग सुनाते हुए बताया कि राजा गजे सिंह के दो पुत्र भूप सिंह व फूल सिंह थे । शहर में एक कुंदन मल सेठ रहता था। जिसकी राज परिवार से गहरी मित्रता थी। राजा गजे सिंह के निधन के बाद भूप सिंह को राजा बनाया जाता है। जबकि फूल सिंह कुंवारा था। एक दिन फूल सिंह की भाभी जानबूझकर ताना कसते हुए जब फूल सिंह से कहती है कि वो साथ के शहर की राजकुमारी नौटंकी से शादी कर ले वहीं उसका ध्यान रखेगी। भाई से शिकायत के बाद फूल सिंह नाराज होकर महल छोड़कर चला जाता है। वह एक शाही बाग में जाता है और मालन के साथ रहता है और नोटंकी से मिलने की योजना बनाता है।

मालन फूल लेकर नौटंकी से मिली तो नौटंकी ने पूछा की फूलों की माला किसने बनाई है, उससे मिलवाओ। मालन महिला के वेष में आए फूल सिंह को मिलवा देती है, जिसे राजकुमारी नौटंकी पहचान लेती है और उसे सिपाहियों को बुलाकर गिरफ्तार करा फांसी की सजा दिलाने का ऐलान कराती है। बताया जाता है कि उसी शहर के जंगलों में एक राक्षस रहता था से रोजाना एक आदमी की बलि दी जाती थी। जब फूल सिंह को राक्षस के पास भेजने की तैयारी होती है तो वह कहता है कि वह क्षत्रिय है और यदि मैं उस राक्षस को मार देगा तो क्या उसे रिहा कर दिया जाएगा। राजा ऐलान करता है कि अगर उसने राक्षस को मार दिया तो रिहाई ही नहीं बल्कि अपनी पुत्री नौटंकी का विवाह भी उसी से कर देगा। फूल सिंह राक्षस को मार देता है जिसके बाद राजा अपना वचन निभाते हुए नौटंकी की शादी फूल सिंह से करा देता है। इस तरह से फूल सिंह अपनी भाभी अर्थात एक औरत के बोल के कारण फूल सिंह ने अपने लक्ष्य को प्राप्त किया।

नाटक

सांग के अंतिम दिन सुनाया फूल सिंह और नौटंकी की शादी का किस्सा

खरखौदा. सांग के अंतिम दिन फूल सिंह व नौटंकी की शादी का किस्सा सुनाते कलाकार।

X
भाभी का ताना सुन नौटंकी से विवाह रचाने का लक्ष्य
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..