• Home
  • Haryana News
  • Kharkhoda
  • चार गांवों में शुद्ध पेयजल आपूर्ति पर खर्च होंगे सवा 7 करोड़ रुपए
--Advertisement--

चार गांवों में शुद्ध पेयजल आपूर्ति पर खर्च होंगे सवा 7 करोड़ रुपए

सिसाना में नई डिग्गी बनाकर वर्षों पुरानी पेयजल आपूर्ति की समस्या को दूर किया जाएगा। सिसाना में डिग्गी पर करीब...

Danik Bhaskar | Jun 04, 2018, 03:25 AM IST
सिसाना में नई डिग्गी बनाकर वर्षों पुरानी पेयजल आपूर्ति की समस्या को दूर किया जाएगा। सिसाना में डिग्गी पर करीब पौने चार करोड़ रुपए की राशि खर्च की जाएगी। सिसाना सहित 4 गांव की पंचायतों को पेयजल आपूर्ति विधिवत करने के लिए करीब सवा 7 करोड़ की राशि खर्च की जानी है। योजना के तहत क्षेत्र के सबसे बड़े दो पंचायत वाले गांव सिसाना में पिछले कई वर्षों से पेयजल की समस्या के कारण ग्रामीणों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। ट्यूबवेलों के माध्यम से ग्रामीण खारा पानी पीने को मजबूर हो रहे थे। मौजूदा सरपंच राधेश्याम व ब्लाक समिति सदस्य इस संदर्भ में कई बार भाजपा पार्टी के मंत्रियों व सीएम से भी मिले थे।

भाजपा नेता एवं सोनीपत से कैबिनेट मंत्री कविता जैन के सामने भी बार-बार सिसाना गांव में पेयजल की समस्या को लेकर आवाज उठाई थी। जिसके बाद सिसाना गांव में पेयजल व्यवस्था के लिए करीब पौने 4 करोड़ रुपए की राशि खर्च की मंजूरी सीएम द्वारा दी गई है। फरमाणा में वाटर लेवल व पेयजल पाइल लाइन के लिए एक करोड़ जन स्वास्थ्य विभाग द्वारा क्षेत्र के फरमाणा गांव में शुद्ध पेयजल आपूर्ति के लिए करीब एक करोड़ रुपए की राशि खर्च की गई है। यही नहीं क्षेत्र के रामपुर में पेयजल ट्यूबवेल पर खर्च होंगे एक करोड़ रुपए की राशि खर्च की जानी है। रामपुर गांव सरपंच नरेश द्वारा बार बार मांग उठाई जा रही थी कि गांव में पेयजल आपूर्ति विधिवत न होने के कारण ग्रामीण महिलाओं को पीने के पानी के लिए घंटों लाइनों में लगकर करीब दो किलोमीटर दूर खेतों में स्थित कुओं एवं नलकूपों से पेयजल का इंतजाम करना पड़ता था। कई बार तो गांव में पैसे देकर टैंकर मंगवाना पड़ता था जिसके बाद गांव वासी लाइन में लगकर पीने के पानी की व्यवस्था करते थे। अब रामपुर गांव में पेयजल के लिए मीठे पानी का एक ट्यूबवेल लगाया जाएगा। इसके अलावा फतेहपुर में पेयजल पाइप लाइनों पर भी राशि खर्च की जानी है। क्षेत्र के फतेहपुर गांव में पेयजल आपूर्ति विधिवत न होने के कारण सरपंच सुशील कुमार ने बार बार जन स्वास्थ्य विभाग व जिला उपायुक्त को शिकायत दी थी कि गांव में पेयजल पाइपों को लेवल ठीक न होने के कारण गांव में पेयजल आपूर्ति मानकों के अनुरूप नहीं हो रही है। जिसके कारण ग्रामीणों को पीने के पानी के लिए भी तरसना पड़ रहा था। सरपंच की मांग पर गांव की पेयजल पाइप लाइनों को लेवल ठीक करने व पाइप लाइनों की व्यवस्था करने के लिए 20 लाख रुपए की राशि की मंजूरी दी है। जल्द ही जन स्वास्थ्य विभाग की तरफ से इस दिशा में कार्रवाई की जाएगी।

जनस्वास्थ्य विभाग व डीसी को दी थी शिकायत

रामपुर गांव में पेयजल के लिए मीठे पानी का एक ट्यूबवेल लगाने के लिए सीएम ने एक करोड़ रुपए की राशि मंजूर की है। इसके अलावा फतेहपुर में पेयजल पाइप लाइनों पर भी 20 लाख की राशि खर्च की जानी है। क्षेत्र के फतेहपुर गांव में पेयजल आपूर्ति विधिवत न होने के कारण सरपंच सुशील कुमार ने बार बार जन स्वास्थ्य विभाग व जिला उपायुक्त को शिकायत दी थी कि गांव में पेयजल पाइपों को लेवल ठीक न होने के कारण गांव में पेयजल आपूर्ति मानकों के अनुरूप नहीं हो रही है। जिसके कारण ग्रामीणों को पीने के पानी के लिए भी तरसना पड़ रहा था। सरपंच की मांग पर गांव की पेयजल पाइप लाइनों को लेवल ठीक करने व पाइप लाइनों की व्यवस्था करने के लिए 20 लाख रुपए की राशि की मंजूरी दी है। जल्द ही जन स्वास्थ्य विभाग की तरफ से इस दिशा में कार्रवाई की जाएगी।