• Home
  • Haryana News
  • Kharkhoda
  • डीसी के आदेशों पर नगर पालिका ने बाईपास पर अवैध निर्माण तोड़े
--Advertisement--

डीसी के आदेशों पर नगर पालिका ने बाईपास पर अवैध निर्माण तोड़े

खरखौदा . खरखौदा बाईपास पर अवैध निर्माण गिराती नगरपालिका की जेसीबी। भास्कर न्यूज | खरखौदा बुधवार की देर रात के...

Danik Bhaskar | Apr 27, 2018, 03:30 AM IST
खरखौदा . खरखौदा बाईपास पर अवैध निर्माण गिराती नगरपालिका की जेसीबी।

भास्कर न्यूज | खरखौदा

बुधवार की देर रात के डीसी विनय कुमार के दौरे के बाद हरकत में आई नगर पालिका ने वीरवार को खरखौदा बाईपास पर अवैध रूप से बगैर मंजूरी लेकर किए गए निर्माण पर जेसीबी चलाई। जिसके तहत अवैध निर्माण कार्यों को ध्वस्त कर दिया। गौरतलब है कि खरखौदा में इस तरह के अवैध निर्माण की ये कोई पहली घटना नहीं है खरखौदा में पूरा साल अवैध निर्माण कार्य चलता रहता है । जिन्हें मौके पर नही रोक जाता। बल्कि पूरी बिल्डिंग बनने तक प्रशासन इंतज़ार करता है । जिस तरह से मौजूदा हाल में नगरपालिका इंतज़ार कर रही थी।

लेकिन इस तरह की कार्रवाई नाममात्र होने से कुछ निर्माणकर्ताओं को नुकसान पहुंचता है जबकि बाकी प्रॉपर्टी डीलरों का कालोनाइजर कॉलोनी विकसित करने में सफल हो जाते हैं। खरखौदा दिल्ली रोड, थाना रोड , बरोणा रोड, सांपला रोड व सोनीपत रोड पर इस तरह की कई कॉलोनियां पहले ही डेवलप चुकी हैं। वहां पर भी प्रशासन ने कई बार तोड़फोड़ की दिखावा रूपी कार्रवाई की थी, लेकिन अवैध निर्माण को रोकने में प्रशासन असफल रहा है। लेकिन बुधवार देर रात तक जिला उपायुक्त विनय सिंह ने खरखौदा में अधिकारियों की मीटिंग ली और विकास कार्यों का जायजा लिया । जिसके बाद अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे अपनी ड्यूटी कर्तव्यनिष्ठा से करें । इस मौके पर को शहर में चल रहे अवैध निर्माण का भी उन्होंने जायजा लिया और मौके देखें । जिसके बाद उन्होंने नगर पालिका अधिकारियों को निर्देश दिए कि खरखौदा शहर में हो रहे अवैध निर्माण पर तुरंत कार्रवाई की जानी चाहिए ताकि नगरपालिका की मंजूरी के बगैर कोई भी निर्माण न हो और केवल सही एवं नियमित ढंग से ही निर्माण कार्य हो सके । डीसी के आदेशों के बाद नगर पालिका ने वीरवार को कार्रवाई करते हुए बरोणा रोड पर स्थित एक बड़े गोदाम व बाईपास के साथ लगते कई निर्माणाधीन प्लाटों की चारदीवारी को ध्वस्त किया । इस मौके पर उन लोगों को मौखिक तौर पर नोटिस दिए हैं कि अपने अवैध निर्माण को हटा ले नहीं तो उनके निर्माण नगर पालिका द्वारा तोड़ दिए जाएंगे।