Hindi News »Haryana »Kharkhoda» 15 में से 12 वाेट पाकर खरखाैदा नपा चेयरपर्सन बनी कमला देवी

15 में से 12 वाेट पाकर खरखाैदा नपा चेयरपर्सन बनी कमला देवी

नव चयनित नगर पालिका पार्षदों ने गुरुवार को चेयरपर्सन और वाइस चेयरमैन का चुनाव किया। वार्ड-3 पार्षद कमला देवी ने 15...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 15, 2018, 03:30 AM IST

15 में से 12 वाेट पाकर खरखाैदा नपा चेयरपर्सन बनी कमला देवी
नव चयनित नगर पालिका पार्षदों ने गुरुवार को चेयरपर्सन और वाइस चेयरमैन का चुनाव किया। वार्ड-3 पार्षद कमला देवी ने 15 में से 12 मत हासिल कर एकतरफा जीत दर्ज की। उनके सामने खड़े वार्ड-4 पार्षद मोहन दहिया को तीन वोट ही मिले। चुनाव बेल्ट पेपर से हुआ। चुनाव के दौरान सांसद रमेश कौशिक और खरखौदा विधायक जयवीर वाल्मीकि भी पहुंचे, लेकिन एकतरफा जीत देखते हुए उन्होंने वोट नहीं डाला।

वाइस चेयरमैन का चुनाव वनदीप उर्फ हैप्पी, सुनीता व रिंपल ने लड़ा। इसमें वनदीप के पक्ष में 8 मत, सुनीता को 5 मत व पूर्व चेयरमैन रिंपल देवी को केवल 2 मत ही प्राप्त हो सके। वनदीप उर्फ हैप्पी वाइस चेयरमैन बने। इससे पहले एसडीएम ने एमपी रमेश कौशिक की उपस्थिति में सभी नव निर्वाचित पार्षदों को शपथ दिलाई। चुनाव के बाद सांसद रमेश कौशिक, सीएम मीडिया सलाहकार राजीव जैन और भाजपा जिलाध्यक्ष डाॅ. धर्मबीर नांदल ने इसे पार्टी की जीत बताते हुए कमला देवी को पटका पहनाया। कुछ देर बाद ही कमला ने पटका फर्श पर फेंक दिया और सीधे कहा कि वे किसी पार्टी से नहीं बल्कि निर्दलीय हैं।

खरखौदा. चेयरपर्सन बनी कमला देवी अपने दोनों बेटों अनिल व सुनील के साथ जीते के बाद भावुक हो गई। इस फोटो में उन्होंने भाजपा का पटका उतार दिया था।

यूं चला शह और मात का खेल

प्रधान व उप प्रधान पद के चुनाव को लेकर सुबह करीब 10 बजे सांसद रमेश कौशिक रेस्ट हाऊस में आ गए थे। वहां पर पहले कमला देवी के समर्थक पार्षद धीरे-धीरे एकत्रित होने लगे। थोड़ी देर बाद सीएम के मीडिया प्रभारी राजीव जैन भी मौके पर पहुंचे। कुछ समय तक कमला देवी के पक्ष वाले पार्षद एक कमरे में बैठे रहे और सांसद रमेश कौशिक भी इनसे मिले। थोड़ी देर बाद वे दूसरे कमरे में चले गए और दूसरे पक्ष के पार्षद इस कमरे में एकत्रित होने लगे। कभी 6 तो कभी 7 भी इस पक्ष में हुए, लेकिन धीरे-धीरे कमला देवी के समर्थकों वाले कमरे में पार्षद जाने लगे। एक समय ऐसा आ गया कि एक कमरे में केवल तीन पार्षद बच गए जबकि कमला देवी के पक्ष में 12 पार्षद एकत्रित हो गए।

स्थिति भांपकर करवाई गई वोटिंग

इसके बाद सांसद रमेश कौशिक व भाजपा नेता राजीव जैन ने एकत्रित होकर चुनाव के लिए कहा और राजकीय विश्राम गृह से सभी पार्षद तहसील कार्यालय में पहुंच गए। जहां पर गुप्त मतदान से चुनाव कराया और कमला देवी 12 मतों से प्रधान बनी जबकि वनदीप उर्फ हैप्पी 8 मत लेकर उप प्रधान बने। चर्चा ये भी है कि आखिरी समय में वार्ड संख्या 1 से पार्षद संजीत उर्फ ढोल ने प्रधान पद का चुनाव केवल इसलिए नहीं लड़ा कि उसका समर्थन विश्राम गृह में नहीं बचा था। उनके स्थान पर उनके पक्ष से मोहन दहिया ने चुनाव लड़ा, जिसे केवल 3 मत ही प्राप्त हुए।

अध्यापिका से नपा प्रधान तक का सफर

नगरपालिका प्रधान बनी अध्यापिका कमला देवी का कहना है कि खरखौदा में उन्होंने स्वतंत्र पब्लिक स्कूल खोलकर छात्रों को शिक्षित किया। उन्होंनें 10वीं की परीक्षा के बाद ओटी व प्रभाकर की हुई है। उन्होंने बताया कि पार्षद के लिए नामांकन हो रहे थे, तो उन्होंने अपना नामांकन होल्ड रख लिया था, क्योंकि वे प्रधान पद के लिए चुनाव लड़ना चाहती थी। नामांकन से दो दिन पहले ही प्रधान पद के आरक्षण संबंधी विवरण सामान्य श्रेणी के लिए आया तो उन्होंने नामांकन किया और परमात्मा ने उनकी सुनी। उन्हें वार्ड संख्या 3 के मतदाताओं ने जहां पार्षद बनाया वहीं शहर के विभिन्न वार्डों से चुनकर आए 11 पार्षदों व अपनी वोट लेकर प्रधान पद का मौका मिला है। उनका कहना है कि वे खरखौदा शहर की मूलभूत आवश्यकताओं को अच्छे से जानती हैं। शहर में बच्चों व महिलाओं के लिए पार्क, पीने के पानी की व्यवस्था, खेल व अन्य सुविधाएं मुहैया कराने के लिए निरंतर तत्पर रहेंगी। वहीं शहर में 20 से अधिक स्थानों पर कमला देवी का हुआ स्वागत किया गया। उन्होंने कहा कि भाइचारे के साथ हैं और भाइचारे को साथ लेकर चलेंगी और खरखौदा का विकास कराने के लिए अहम भूमिका अदा करेंगी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kharkhoda

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×