खरखौदा

  • Hindi News
  • Haryana News
  • Kharkhoda
  • एसटीपी का अंतिम मैन हाॅल खराब, पानी को जोहड़ में डाला
--Advertisement--

एसटीपी का अंतिम मैन हाॅल खराब, पानी को जोहड़ में डाला

शहर की पानी निकासी के लिए 2012 में राज्य सरकार ने जो 12 करोड़ रुपए से सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) की व्यवस्था की थी,...

Dainik Bhaskar

Jul 18, 2018, 03:35 AM IST
शहर की पानी निकासी के लिए 2012 में राज्य सरकार ने जो 12 करोड़ रुपए से सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) की व्यवस्था की थी, वह हर सीजन की बारिश में जवाब दे रही है। सोमवार को मानसून की पहली बारिश ने ही यहां जनस्वास्थ्य विभाग के दावों गलत साबित हुए। बारिश का पानी सीवरेज में जाने के बजाए जोहड़ों में ही ले जाना पड़ा।

सीवरेज लाइनों में जो बरसात का पानी था उसे भी मोटरों के सहारे जोहड़ में फैंकना पड़ा। जिसके कारण मटिंडू मार्ग पर जोहड़ ओवरफ्लो होने के कगार पर पहुंच गया है। क्योंकि शहर का जितना भी बारिश का पानी सीवरेज लाइनों में आया वह मुख्य सीवरेज लाइन जो मटिंडू मार्ग से गुजरती है उसके माध्यम से लिफ्ट कराके मटिंडू मार्ग पर स्थित जोहड़ में फैंकना पड़ा। वार्ड पार्षदों को भी शिकायत दी गई है, लेकिन समस्या का अभी तक स्थाई हल नहीं हो पाया है। वार्ड के जिले सिंह, सुरेंद्र, नफे सिंह, करतार सिंह, अजय कुमार, प्रवीन का कहना है कि जोहड़ में सीवरेज लाइन का पानी डालने से जोहड़ की स्थित अभी से ओवरफ्लो होने जैसी हो गई है। पूरी सड़क पर लीकेज सुंडवों के कारण दुर्गंध युक्त गंदा पानी फैल रहा है। विभाग को चाहिए कि जोहड़ का पानी पंप लगाकर ड्रेन तक पहुंचाए, लेकिन यहां पर उल्टा सीवरेज का पानी जोहड़ में डाला जा रहा है।

खरखौदा. पानी को इस तरह से जोहड़ में डाला हुआ था।

24 की बजाय 4 इंची पाइप से कैसे होगी शहर की पानी निकासी

वार्ड वासियों ने जब सीवरेज के पानी को जोहड़ में डायवर्ट करने का विरोध किया तो आनन-फानन में जन स्वास्थ्य विभाग ने मैन सीवरेज लाइन का पानी जोहड़ से हटाकर अस्थाई 4 इंची लोहे की पाइप से सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट तक पहुंचाने की प्लानिंग की है, लेकिन बारिश के सीजन में 24 इंची सीवरेज लाइनों की बजाय 4 इंची पाइप से कैसे पूरा पानी जाएगा।

अंतिम मैन हाल से खराब हुआ सीवरेज सिस्टम : दबाई गई सीवरेज लाइन का अंतिम छोर खरखौदा मटिंडू मार्ग बाईपास पर है और यहीं पर स्पेशल सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट स्थापित किया हुआ है, लेकिन हर वर्ष सीजन के दौरान यह सीवरेज सिस्टम जवाब दे जाता है और बाईपास के अंतिम छोर का मैन हाल खराब पड़ जाता है। पूरा बारिश का सीजन जन स्वास्थ्य विभाग उसे ही ठीक करने में निकाल देता है। जिसका खामियाजा शहर वासियों को कालोनियों में घूसे हुए पानी को अपने स्तर पर निकलने में जुट जाता है।

खरखौदा. वार्ड वासियों के विरोध के बाद 24 इंची सीवरेज लाइन को मात्र 4 इंची पाइप से जोड़कर एस.टी.पी तक ले जाते जन स्वास्थ्य कर्मी।

सीवरेज मैन हाल की सफाई का काम चल रहा है : जेई


X
Click to listen..