• Hindi News
  • Haryana
  • Khijrabad
  • पुराल जलाने व कीट नाशकों के अधिक प्रयोग से कमजोर हो रही भूमि : स्पीकर
--Advertisement--

पुराल जलाने व कीट नाशकों के अधिक प्रयोग से कमजोर हो रही भूमि : स्पीकर

अनाज मंडी में आयोजित किसान मेले में किसानों को संबोधित करते हुए विधान सभा स्पीकर कंवरपाल ने कहा कि जमीन को बंजर...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 02:10 AM IST
पुराल जलाने व कीट नाशकों के अधिक प्रयोग से कमजोर हो रही भूमि : स्पीकर
अनाज मंडी में आयोजित किसान मेले में किसानों को संबोधित करते हुए विधान सभा स्पीकर कंवरपाल ने कहा कि जमीन को बंजर होने से बचाएं। कीट नाशकों के अत्यधिक प्रयोग तथा पुराल आदि जलाने से भूमि की उपजाऊ शक्ति लगातार कम हो रही है। उन्होंने कहा कि कृषि वैज्ञानिकों की नई रिसर्च से लाभ उठाकर खेती के तौर तरीकों में बदलाव लाना समय की जरूरत है। उन्होंने किसानों से अपील करते हुए कहा कि विदेशी फ्रूट इस्तेमाल करने की बजाय अपने देशी फलों को बढ़ावा दें। कृषि मेले में खेती से संबंधित नई कृषि यंत्रों की प्रदर्शनी भी लगाई गई। कृषि विभाग के ज्वाइंट डायरेक्टर जगराज सिंह डांडी ने कहा कि उन्नत बीज व नई तकनीक का प्रयोग कर अच्छी फसल उगा कर लाभ कमा सकते हैं।

कृषि प्रदर्शनी में आए किसानों को संबोधित करते हुए जिला वानिकी अधिकारी डाक्टर हीरा लाल ने कहा कि फसल चक्र में बदलाव लाएं और बागवानी को अपनाएं। मछली पालन अधिकारी डाॅ. प्रदीप ने बताया कि सरकार मछली पालन के लिए पांच साल के लिए पट्टे पर लिए तालाब के लिए भी चालीस प्रतिशत अनुदान दे रही है। हैचरी के लिए कम कम से पांच एकड़ जमीन की जरूरत होती है जिसके लिए पच्चीस लाख का लोन व चालीस प्रतिशत अनुदान दिया जाता है। नाबार्ड के जिला अधिकारी राजेश सैनी ने बैंक संबंधी जानकारी दी। जिला उप कृषि निदेशक सुरेन्द्र यादव ने गन्ना व मक्के के बारे में नई जानकारी दी। पशु पालन विभाग के डीडीएच सत्यवीर सिंह ने बताया कि सरकार गो संवर्धन व संरक्षण के लिए देसी गाय पालने पर 50 प्रतिशत सब्सिडी दी जा रही है। भेड़ व बकरी पालन पर भी बीस प्रतिशत अनुदान की स्कीम लागू की गई है। इस मौके पर कृषि अधिकारी डाॅ. राकेश मेहरा, डाॅ. बीआर कांबोज, डाॅ. बलवान सिंह, डाॅ. आरएस टाया ने भी अपने विचार व्यक्त किए।

खिजराबाद | राज्य स्तरीय कृषि मेले में लगी प्रदर्शनी का अवलोकन करते स्पीकर कंवरपाल।

X
पुराल जलाने व कीट नाशकों के अधिक प्रयोग से कमजोर हो रही भूमि : स्पीकर
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..