• Home
  • Haryana News
  • Khijrabad
  • जब भक्त पर विपदा आती है, भगवान भक्त का हाथ स्वयं थाम लेते हैं : वरुण
--Advertisement--

जब भक्त पर विपदा आती है, भगवान भक्त का हाथ स्वयं थाम लेते हैं : वरुण

जब कभी भक्त पर विपदा आती है, तो भगवान अपने भक्त का हाथ थाम लेते हैं। ईश्वर को पाना है तो उसके रंग में रंग जाओ। पति को...

Danik Bhaskar | Jun 09, 2018, 02:35 AM IST
जब कभी भक्त पर विपदा आती है, तो भगवान अपने भक्त का हाथ थाम लेते हैं। ईश्वर को पाना है तो उसके रंग में रंग जाओ। पति को धर्म की राह पर लगाए रखने वाली ही धर्मप|ी कहलाती है। उक्त प्रवचन कथा वाचक वरुण दास जी ने गांव कलेसर में श्रीमद्भागवत कथा में कहे।

श्रीमद्भागवत कथा के चौथे दिन भक्त प्रहलाद के जन्म से कथा का शुभारंभ करते हुए वरुण दास ने कहा भगवान के सच्चे भक्त पर दुनिया के कितने भी कष्ट आए, तो ईश्वर उसकी रक्षा करते हैं। उन्होंने कहा कि परमात्मा भक्त का सेवाभाव देखते हैं।

सच्चे मन कर्म व समर्पण भाव से भगवान को भजो भगवान दौड़े चले आते हैं। इस अवसर पर मुख्य यजमान अशोक कुमार व उनके परिवार द्वारा पूजा अर्चना की गई। कार्यक्रम में संत कृष्ण चेतन ब्रह्मचारी, विनोद कुमार तेलीपुरा, करनैल सिंह धीमान, विकास कुमार, तेज पाल, जगत सिंह मौजूद रहे।

खिजराबाद | कथा में प्रवचन करते वरुण दास जी महाराज।