खिजराबाद

  • Hindi News
  • Haryana News
  • Khijrabad
  • हरि नाम जपने से नारकीय यातानओं से मिल जाती है मुक्ति: वरुणदास
--Advertisement--

हरि नाम जपने से नारकीय यातानओं से मिल जाती है मुक्ति: वरुणदास

कलयुग में यदि कोई कैसे भी कर के अपनी जीभा से हरि नाम जपता रहेगा वह हर प्रकार की नारकीय यातनाओं से बच जाता है। मोह...

Dainik Bhaskar

Jun 10, 2018, 02:35 AM IST
हरि नाम जपने से नारकीय यातानओं से मिल जाती है मुक्ति: वरुणदास
कलयुग में यदि कोई कैसे भी कर के अपनी जीभा से हरि नाम जपता रहेगा वह हर प्रकार की नारकीय यातनाओं से बच जाता है। मोह बंधन से मन को हटा कर प्रभु भक्ति में लगाएं। कलेसर में श्रीकृष्ण कथा के दौरान स्वामी वरूण दास महाराज ने प्रवचन करते हुए ये बात कही।

यह सुनकर विषणुदेवानंद आश्रम में श्रीमद्भागवद कथा में श्रीकृष्ण अवतरण कथा के दौरान पंडाल में बैठे श्रद्धालु भाव विभोर हो गए। श्रद्धालुओं से भरा पंडाल जन्मोत्सव के हर्षोल्लास में डूब गया। कथा व्यास वरुणदास ने कहा कि कलयुग के कुप्रभाव के कारण धर्म विकृत हो रहा है। धर्म के नाम पर इंसान का दुश्मन बना हुआ है। उन्होंने कहा कि किसी को कष्ट पहुंचाना धर्म नहीं हो सकता। धर्म सम्प्रदाय के नाम पर रक्तरंजित होलियां खेली जाती हैं। जोकि बहुत ही दुर्भाग्य पूर्ण है। उन्होंने कहा कि धर्म का रूप विराट है, जो अपने आप में संपूर्ण, अखंड एवं अविभाज्य है। धर्म शाश्वत सनातन है, जिसका अर्थ धारण करना है। ये सब ब्रहमज्ञान से ही जाना जा सकता है। वरूण दास ने श्रीकृष्ण कन्हैया की बाल लीलाओं का वर्णन करते हुए कहा कि माखन से भरी मटकी को फोड़ना नश्वर शरीर की ओर संकेत करता है। मनुष्य शरीर भी मिट्टी से बना है। शरीर में जब तक आत्मा है तब तक सुंदर है, कीमती है। आत्मा रूपी पंछी के निकल जाने के बाद सब राख-मिट्टी हो जाता है। कथा व्यास ने कहा कि कलयुग में प्रभु के नाम का ही सहारा है।

खिजराबाद। कथा में प्रवचन करते वरुण दास महाराज व उपस्थित श्रद्धालु ।

हरि नाम जपने से नारकीय यातानओं से मिल जाती है मुक्ति: वरुणदास
X
हरि नाम जपने से नारकीय यातानओं से मिल जाती है मुक्ति: वरुणदास
हरि नाम जपने से नारकीय यातानओं से मिल जाती है मुक्ति: वरुणदास
Click to listen..