• Home
  • Haryana News
  • Khijrabad
  • जन्म-मरण के बंधन से मुक्ति पाने का रास्ता श्रीराम नाम का जाप : शास्त्री
--Advertisement--

जन्म-मरण के बंधन से मुक्ति पाने का रास्ता श्रीराम नाम का जाप : शास्त्री

जन्म-मरण के बंधन से अगर मुक्ति पानी है तो श्रीराम नाम का जाप करें। सतयुग में हजारों सालों की तपस्या से जो फल प्राप्त...

Danik Bhaskar | Jun 14, 2018, 02:35 AM IST
जन्म-मरण के बंधन से अगर मुक्ति पानी है तो श्रीराम नाम का जाप करें। सतयुग में हजारों सालों की तपस्या से जो फल प्राप्त होता था उससे कहीं ज्यादा पुण्य कलयुग में भगवान राम का नाम लेने से मिलता है। बहादुरपुर में चल रही श्रीराम कथा के दौरान बिजेंद्र शास्त्री ने ये प्रवचन किए। कथा व्यास बिजेंद्र शास्त्री ने कहा कि कलयुग में भगवान राम का नाम लेने से इतना पुण्य मिलता है जितना सतयुग व द्वापर में हजारों वर्षो के तप के बाद मिलता था। किसी भी दृष्टि से भगवान को भजो उसका पुण्य अवश्य मिलता है। उन्होंने कहा कि जहां संत निवास करते हैं वो स्थान तीर्थ बन जाता है। अच्छे संत ही हमें भक्ति मार्ग से जोड़ सकते हैं। शास्त्री ने कहा कि जीवन अनमोल है। इसे अच्छे कार्यों में लगाएं। कथा का शुभारंभ पूजन के साथ किया गया। यज्ञमान ओम प्रकाश, रात कुमार ने पूजन किया। इस अवसर पर महंत स्वामी सुबोधानंद,नरेश सिंगला, अशोक गर्ग, शिव चरण मित्तल, रामकरण धीमान, राज कुमार, श्याम कुमार, नरेंद्र कुमार, नरेश कुमार, सचिन कुमार, राम सिंह राणा, प्रवीन बटार, सुशील कश्यप, सुमित बटार, राजबीर सिंह, अमर बटार, देवी दास,सूरजभान, मोहन आदि उपस्थित रहे।

खिजराबाद| कथा में प्रवचन करते कथावाचक।