Hindi News »Haryana »Khijrabad» गंभीर बीमारियों से जूझ रहे श्रमिक, नहीं मिल पा रहा सरकार की योजनाओं का लाभ

गंभीर बीमारियों से जूझ रहे श्रमिक, नहीं मिल पा रहा सरकार की योजनाओं का लाभ

भवन निर्माण कामगार यूनियन के पंजीकृत मजदूरों को भी राष्ट्रीय स्वास्य बीमा योजना का लाभ नहीं मिल रहा है। बीमा...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 30, 2018, 04:25 AM IST

भवन निर्माण कामगार यूनियन के पंजीकृत मजदूरों को भी राष्ट्रीय स्वास्य बीमा योजना का लाभ नहीं मिल रहा है। बीमा योजना के अंतर्गत जिला के 23 अस्पतालों को पैनल पर लिया गया है लेकिन गंभीर रोगों के मरीज दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर हैं। सरकार द्वारा शुरू की गई राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना है। योजना के तहत पंजीकृत श्रमिक व उसके परिवार को 50 हजार रुपए तक का मुफ्त इलाज की सुविधा प्रदान की गई है। ये सुविधा यूनियन के रजिस्टर्ड श्रमिकों को ही दी जाती है। भवन निर्माण कामगार यूनियन के जिला प्रधान मतलूब हसन भूड़कलां ने बताया कि बेगमपुर के 52 वर्षीय तेजपाल कैंसर से पीड़ित हैं। बरौली माजरा के 50 वर्षीय इकबाल दिल की बीमारी से जूझ रह हैं। मगर शहर के एक नामी अस्पताल के डाॅक्टर ने इनका इलाज करने से साफ मना कर दिया है। उन्होंने बताया कि मजदूर ने 35 हजार रुपए नकद देकर इलाज कराना पड़ा है। उन्होंने बताया कि इसी प्रकार बहादुरपुर के धर्मपाल व अराइयांवाला के अख्तर दोनों कैंसर के उपचार के लिए भटक रहे हैं। हसन ने बताया कि कुछ वजह से कई श्रमिकों के पास हेल्थ स्मार्ट कार्ड नहीं है। ऐसे में सरकार श्रमिकों की पंजीकरण पास बुक को भी आधार मानकर इलाज की सुविधा प्रदान करवानी चाहिए। उन्होंने बताया कि 2013-14 में जिस निजी कंपनी ने हेल्थ स्मार्ट कार्ड इशू किए थे वह अब काम छोड़ कर जा चुकी है। डॉक्टर उन स्मार्ट कार्ड को मान्यता ही दे रहे हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Khijrabad News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: गंभीर बीमारियों से जूझ रहे श्रमिक, नहीं मिल पा रहा सरकार की योजनाओं का लाभ
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Khijrabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×