कुरुक्षेत्र

--Advertisement--

प्रधान सचिव के आदेशों पर अधूरी कार्रवाई

12 साल से जिला अस्पताल में खड़े 20 कंडम वाहनों की बोली न होने को लेकर बड़े अधिकारियों के दौरे के दौरान अस्पताल प्रशासन...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 03:45 AM IST
12 साल से जिला अस्पताल में खड़े 20 कंडम वाहनों की बोली न होने को लेकर बड़े अधिकारियों के दौरे के दौरान अस्पताल प्रशासन को खरी-खरी सुननी पड़ती है, लेकिन वाहनों की बोली के लिए डीजी हेल्थ की अनुमति लेनी होती है। इसके लिए सिविल सर्जन कार्यालय से कई बार पत्र लिखा जा चुका है, लेकिन अनुमति नहीं मिली। वही 22 जनवरी को जिला अस्पताल का निरीक्षण करने पहुंचे प्रधान सचिव ने भी जिला अस्पताल के अंदर क्षय रोग केंद्र के पास कंडम वाहनों को देखकर अस्पताल प्रशासन को लताड़ा था। प्रधान सचिव अमित झा ने एक सप्ताह में कंडम वाहनों की बोली कराए जाने के निर्देश दिए थे, लेकिन 10 दिन बीत जाने के बाद भी वाहन नहीं और न ही डीजी ने इसे लेकर अनुमति दी।

आदेशों पर अधूरी कार्रवाई : प्रधान सचिव झा ने निरीक्षण के दौरान आठ बिंदुओं पर काम करने के आदेश दिए थे। जिनमें से जिला अस्पताल प्रशासन अब तक दो बिंदुओं पर ही काम करा पाया है। जिला अस्पताल प्रशासन ने टीबी केंद्र की बिल्डिंग पर पेंट कराने और अस्पताल के अंदर बने केबिन को ही हटाया है। पुरानी बिल्डिंग के अनावश्यक हिस्से को हटाकर मल्टी पर्पज पार्किंग के लिए खुली जगह देने, क्षय रोग केंद्र की मरम्मत करवाने, अस्पताल के आपातकालीन प्रवेश द्वार को और खुला करने और अस्पताल की एंट्री व निकासी को दोबारा बनाने और एंट्री गेट पर बने पार्क को हटाने और अस्पताल में कैथ लैब का प्रावधान करने के निर्देश दिए थे। वहीं चिकित्सकों के नए आवास व अन्य सुविधाओं का प्रस्ताव भेजने को भी कहा था, लेकिन इन आदेशों का पालन नहीं हो पाया।

कुरुक्षेत्र | एलएनजेपी में खड़े कंडम वाहन।

X
Click to listen..