Hindi News »Haryana »Kurukshetra» हर माह विद्यार्थी के सभी प्रश्नों की डिटेल अपलोड करनी होगी

हर माह विद्यार्थी के सभी प्रश्नों की डिटेल अपलोड करनी होगी

शिक्षा विभाग की ओर से पहली से आठवीं कक्षा तक की हर महीने होने वाली परीक्षाओं के लिए डाले गए नए फार्मेट ने 1450...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 03:50 AM IST

शिक्षा विभाग की ओर से पहली से आठवीं कक्षा तक की हर महीने होने वाली परीक्षाओं के लिए डाले गए नए फार्मेट ने 1450 प्राथमिक शिक्षकों की टेंशन बढ़ा दी है। इससे पहले शिक्षकों को प्रत्येक विद्यार्थी के प्राप्त अंकों की डिटेल विभाग की वेबसाइट पर अपलोड करनी होती थी।

वहीं अब शिक्षकों को प्रत्येक विद्यार्थी के प्रत्येक विषय और प्रत्येक प्रश्न के सही व गलत की डिटेल देनी है। इससे हर विद्यार्थी की डिटेल भरने के लिए शिक्षकों को मशक्कत का सामना करना पड़ेगा। नए फार्मेट से शिक्षकों में रोष भी है।

शिक्षकों का कहना है कि जो समय विद्यार्थियों को पढ़ाने में लगना चाहिए, विभाग उसको विद्यार्थियों के फार्मेट भरवाने में लगवाना चाहता है। इससे पढ़ाई प्रभावित होगी। राजकीय प्राथमिक शिक्षक संघ के प्रधान विनोद चौहान ने कहा कि जिलेभर के किसी प्राथमिक स्कूल में इंटरनेट व कंप्यूटर की सुविधा नहीं है। ऐसे में शिक्षकों को पहले तो कागज पर फार्मेट की डिटेल बनानी होगी। इसके कैफे पर जाकर डिटेल अपलोड करवानी पड़ेगी।

इससे पहले तक शिक्षकों से सभी विद्यार्थियों के प्राप्त अंकों की डिटेल अपलोड कराई जाती थी। वहीं अब शिक्षकों को और मेहनत करनी पड़ेगी।

कागजी कार्रवाई में उलझाया जा रहा शिक्षकों को : सिंह

शिक्षक सूबे सिंह, विकास, संजय और राजेश कुमार ने कहा कि एक ओर तो विभाग के पहली से आठवीं तक परीक्षाएं न लेने के निर्देश हैं। वहीं दूसरी ओर हर माह होने वाली परीक्षाओं की कागजी कार्रवाई में शिक्षकों को उलझाया जा रहा है। यह पूरी तरह से गलत है। शिक्षकों ने कहा कि फार्मेट बदलने की जगह विभाग वार्षिक परीक्षा शुरू करे। इससे विद्यार्थियों का सही मूल्यांकन हो पाएगा। वहीं पांचवीं व आठवीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा भी लागू होनी चाहिए।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kurukshetra

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×