--Advertisement--

संगीत विचलित मन को करता है शांत : पंडित बृज

कुरुक्षेत्र | शास्त्रीय संगीत के सरोद वादक पंडित बृज नारायण ने कहा कि संगीत के सुर हमारे मनोबल को प्रबल बनाते हैं।...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 03:50 AM IST
कुरुक्षेत्र | शास्त्रीय संगीत के सरोद वादक पंडित बृज नारायण ने कहा कि संगीत के सुर हमारे मनोबल को प्रबल बनाते हैं। मनुष्य का जीवन विविधताओं से भरा है, जिसमें सुख-दुख, आशा-निराशा और जय-पराजय के कई रंग समाहित हैं। उन्होंने कहा कि संगीत के स्वर मनुष्य के विचलित मन को शक्ति व शांति प्रदान करते हैं।

वे बुधवार को गुरुकुल में आयोजित शास्त्रीय संगीत कार्यक्रम के दौरान विद्यार्थियों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि संगीत साधना की शक्ति से असहाय होने पर भी व्यक्ति असंभव कार्य कर जाता है। संगीत में मन को जीतने की अपार शक्ति है। संगीत मानसिक, आध्यात्मिक व शारीरिक शक्ति का संचार करता है। हमारा मन वायु से भी अधिक गतिशील रहता है, संगीत उसमें ऊर्जा का संचार कर विजय पथ की ओर अग्रसर करता है। गुरुकुल के निदेशक व प्राचार्य कर्नल अरुण दत्ता ने कहा कि संगीत का सीधा संबंध मस्तिष्क से है। मन में हम जिस प्रकार के विचार धारण करते हैं, उन्हीं के अनुरूप ढल जाते हैं। अगर हम अपने मन को सशक्त बनाना चाहते हैं तो संगीत साधना से जुडऩा होगा। गुरुकुल के प्रधान कुलवंत सैनी, सह प्राचार्य शमशेर सिंह, प्रो. रामनिवास शर्मा, प्रो. सुषमा शर्मा, प्रो. दिनेश दधीचि, डॉ. रामेंद्र सिंह, बलबीर सिंह, लेफ्टिनेंट श्रवण भारद्वाज, सूबे प्रताप और सुनीता मौजूद थी।

कुरुक्षेत्र गुरुकुल कुरुक्षेत्र में भारतीय शास्त्रीय संगीत के विख्यात सरोदवादक पंडित बृज नारायण व अन्य प्रस्तुति देते हुए।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..