--Advertisement--

ई-वे बिल योजना के पहले ही दिन सर्वर रहा डाउन

गुरुवार को ई वे बिल योजना लागू हुई थी। लेकिन दोपहर बाद सर्वर के डाउन होने के कारण इसे कुछ समय के लिए टाल दिया गया।...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 04:20 AM IST
ई-वे बिल योजना के पहले ही दिन सर्वर रहा डाउन
गुरुवार को ई वे बिल योजना लागू हुई थी। लेकिन दोपहर बाद सर्वर के डाउन होने के कारण इसे कुछ समय के लिए टाल दिया गया। व्यापारियों को बिल काटने में परेशानी हुई। व्यापारियों ने इसकी सूचना ईटीओ को दी। जिसके बाद व्यापारियों को साधारण बिल काटने की अनुमति दी गई।

एक फरवरी को इंटरा व इंटर स्टेट दोनों बिलों को लागू किया गया था। सर्वर डाउन रहने से व्यापारियों को परेशानी हुई। ई वे बिल के माध्यम से विभाग की साइट पर ट्रक में लोड सामान की पूरी जानकारी बिल जेनरेट होते ही डाल दी जानी होती है। इसमे ंसेल टैक्स टीम रेड के दौरान इंटरनेट के माध्यम से सामान की जांच कर सकेंगी। इससे पहले विभागीय अधिकारी मौके पर पूरी जानकारी नहीं जुटा पाते थे। अब सरकार ने ई-वे बिल (इलेक्ट्रॉनिक बिल) माल ढुलाई पर लागू करने की घोषणा कर दी थी। इसकी वैधता दूरी के हिसाब से तय की गई थी। ई-वे बिल में माल पर लगने वाले जीएसटी की पूरी जानकारी होनी थी। ई-वे बिल से पता लग जाता है कि सामान का जीएसटी चुकाया है या नहीं।

क्या है ई-वे बिल : ई-वे बिल की व्यवस्था के तहत अगर किसी वस्तु का एक राज्य से दूसरे राज्य या फिर राज्य के अंदर मूवमेंट होता है तो सप्लायर को ई-वे बिल जनरेट करना होता है।

पहले दिन आई परेशानी : ईटीओ पुनीत शर्मा ने कहा कि गुरुवार को राज्य व अंतर राज्य में ई वे बिल लागू किया था। दोपहर बाद सर्वर डाउन होने से ई वे बिल काटने में व्यापारियों को परेशानी हुई। परेशानी को देखते हुए व्यापारियों को माल के साथ साधारण बिल देकर भेजने के लिए कहा गया। पुनीत ने कहा कि गाड़ियों की चेकिंग की गई थी।

X
ई-वे बिल योजना के पहले ही दिन सर्वर रहा डाउन
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..