भक्त प्रह्लाद की रक्षा के लिए भगवान ने लिया नरसिंह अवतार : लक्ष्मी प्रसाद

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 08:40 AM IST

Kurukshetra News - पंडित लक्ष्मी प्रसाद शास्त्री ने शुक्रवार को भगवान नरसिंह जयंती पर श्रद्धालुओं को भगवान नरसिंह की कथा सुनाई। कहा...

Shahbad News - haryana news god protects the devotee prahlada narasimha avatar lakshmi prasad
पंडित लक्ष्मी प्रसाद शास्त्री ने शुक्रवार को भगवान नरसिंह जयंती पर श्रद्धालुओं को भगवान नरसिंह की कथा सुनाई। कहा कि कश्यप राजा के दो पुत्र हिरण्याक्ष और हिरण्यकश्यप थे। एक बार हिरण्याक्ष धरती को पाताल लोक में ले गया। तब भगवान विष्णु ने क्रोध में आकर उसका वध कर दिया और वापस शेषनाग की पीठ पर धरती को स्थापित कर दिया। अपने भाई की मृत्यु के पश्चात हिरण्यकश्यप ने बदला लेने की योजना बनाई।

उसने ब्रह्मा जी की कठोर तपस्या कर वरदान मांगा कि ना उसे कोई मानव मार सके और ना ही कोई पशु, उसकी न दिन में मृत्यु हो न रात में, न घर के भीतर और न बाहर, न धरती पर और न आकाश में, न किसी अस्त्र से और न ही किसी शस्त्र से। यह वरदान प्राप्त कर उसे अंहकार हुआ कि उसे कोई नहीं मार सकता। वह स्वंय को भगवान समझने लगा। उसके अत्याचारों से तीनों लोक परेशान हो उठे। जबकि हिरण्यकश्यप का पुत्र प्रह्लाद भगवान विष्णु का भक्त था। एक दिन प्रह्लाद ने अपने पिता से कहा कि भगवान विष्णु हर जगह मौजूद हैं, तो हिरण्यकश्यप ने उसे चुनौती देते हुए कहा कि अगर तुम्हारे भगवान सर्वत्र हैं, तो इस स्तंभ में वो क्यों नहीं दिखते। ये कहने के बाद उसने उस स्तंभ पर प्रहार किया। तभी स्तंभ में से भगवान विष्णु नरसिंह अवतार में प्रकट हुए और हिरण्यकश्यप का वध कर दिया। श्रद्धालुओं ने भगवान नरसिंह की पूजा अर्चना की ।

शाहाबाद | भगवान नरसिंह की पूजा अर्चना करते श्रद्धालु।

हुडा में हुआ हवनयज्ञ

हुडा स्थित भगवान नरसिंह भगवान नरसिंह परमार्थ ट्रस्ट द्वारा विश्व शांति के लिए यज्ञ किया गया। जिसमें श्रद्धालुओं ने आहुति डाली। माैके पर आचार्य उत्तम प्रसाद शास्त्री, गढ़वाल सभा के प्रधान सुरेश भारद्वाज, भगवती प्रसाद, प्रमोद वशिष्ट, वेद प्रकाश, रामचंद्र, राकेश शास्त्री, जटाशंकर, शैला देवी, पूजा भट्ट, ऋचा भट्ट, महेश, अनिल शास्त्री, रामलाल शास्त्री, पंकज वत्स, राममूर्ति शर्मा उपस्थित थे।

X
Shahbad News - haryana news god protects the devotee prahlada narasimha avatar lakshmi prasad
COMMENT