पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Kurukshetra News Haryana News Hospital Administration Could Not Make Arrangements Patients Had To Wait For Two Hours For Medicine

अस्पताल प्रशासन नहीं बना पाया व्यवस्था, मरीजों को दवा के लिए दो घंटे तक करना पड़ा इंतजार

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जिला अस्पताल में बुधवार को फार्मासिस्ट दो घंटे की हड़ताल पर रहे। मरीजों को दो घंटे तक दवा के लिए अस्पताल की डिस्पेंसरी में इंतजार करना पड़ा। अस्पताल प्रशासन दवा काउंटरों पर व्यवस्था ही नहीं कर पाया। पक्के फार्मासिस्टों के साथ एमएमआईवाई के कर्मचारी भी हड़ताल में शामिल हुए। दवा के लिए मरीज फार्मासिस्टों की मिन्नतें करते दिखे। बुधवार को जिलेभर के फार्मासिस्ट ग्रेड पे 4600 की मांग को लेकर हड़ताल पर रहे। फार्मासिस्टों ने बुधवार को सीएम के नाम डिप्टी सिविल सर्जन को ज्ञापन सौंपा। फार्मासिस्टों ने चेतावनी दी कि अगर सप्ताहभर में सरकार ने उनकी मांगों को नहीं माना तो कर्मचारी अनिश्चित कालीन हड़ताल पर चले जाएंगे। बता दें कि फरवरी 2018 में यूनियन का शिष्टमंडल मुख्यमंत्री से मिला था। मुख्यमंत्री ने मांगों पर सहमति जताई थी। जिला प्रधान राजीव कुमार ने बताया कि बुधवार को कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर प्रदर्शन करना था लेकिन पूर्व विदेशमंत्री सुषमा स्वराज के निधन के कारण शांति पूर्ण तरीके से दो घंटे की हड़ताल की। कर्मचारियों ने उनके निधन पर प्रदर्शन पर दो मिनट का मौन भी रखा।

फार्मासिस्ट से महिला बोली-डॉक्टर साहब दे दो दवा उसके बाद बैठ जाना हड़ताल पर: चिकित्सक से दवा लिखवाने के बाद मरीज दवा लेने के लिए डिस्पेंसरी में पहुंचे, लेकिन काउंटर पर कोई भी कर्मचारी बैठा नहीं दिखाई दिया। इसी बीच मरीज शांति देवी डिस्पेंसरी से बाहर खड़े फार्मासिस्ट से बोली डॉक्टर साहब पहले दवा दे दो उसके बाद हड़ताल पर बैठ जाना। फार्मासिस्ट डिस्पेंसरी से बाहर धरने पर बैठे रहे, वहीं मरीजों ने डिस्पेंसरी के अंदर ही डेरा डाल लिया। दवा लेने पहुंचे कुछ मरीज डिस्पेंसरी में नीचे बैठ गए तो कुछ खिड़की से चिपके हुए दस बजने का इंतजार करते दिखाई दिए। बारना निवासी सोना देवी, झांसा की दयालो देवी, कुरुक्षेत्र निवासी सुरजीत पिहोवा निवासी जिले सिंह ने कहा कि वह सुबह साढ़े आठ बजे से डिस्पेंसरी में दवा लेने के लिए खड़े हैं, लेकिन उन्हें साढ़े 9 बजे तक भी दवा नहीं मिली।

कर्मचारी बोले-हो रही अनदेखी : फार्मासिस्टों ने कहा की सरकार उनकी अनदेखी कर रही है। कहां कि एमपीएसडब्ल्यू, एएनएम व एलटी का 2400 पे ग्रेड था। कर्मचारियों ने धरना प्रदर्शन किया तो सरकार ने पे ग्रेड 4200 कर दिया। हम सरकार से लंबे समय से 4600 ग्रेड पे की मांग कर रहे हैं, लेकिन आज तक सरकार ने उनकी मांग की तरफ कोई ध्यान नहीं दिया। जिला प्रधान जिला कोषाध्यक्ष संजीव सैनी, रुचि शर्मा, भारत गोयल, अमित ने कहा कि 2014 से एमएमआईवाई के तहत लगे कर्मचारी करीब 12 हजार में ही काम कर रहे हैं। जबकि डीसी रेट भी इससे ज्यादा है। इस मौके पर संतोष सिंगला, अनिल गोयल, राजबीर सिंह, प्रदीप, सीता देवी, स्नेहा , बलजिन्द्र कौर व अन्य फार्मासिस्ट मौजूद रहे। डिप्टी सिविल सर्जन डॉ. एनपी सिंह ने बताया कि कर्मचारियों ने बुधवार को उन्हें मुख्यमंत्री के नाम मांगपत्र सौंपा है। कर्मचारियों के मांग पत्र को सरकार तक पहुंचाया जाएगा।

खबरें और भी हैं...