कथा में सुनाया राम वनगमन प्रसंग

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 08:40 AM IST

Kurukshetra News - श्रीमद् देवी भगवती बाला सुंदरी मंदिर में आयोजित नौ दिवसीय संगीतमय रामकथा के सातवें दिन आचार्य मदन मोहन ने भगवान...

Shahbad News - haryana news rama execution context
श्रीमद् देवी भगवती बाला सुंदरी मंदिर में आयोजित नौ दिवसीय संगीतमय रामकथा के सातवें दिन आचार्य मदन मोहन ने भगवान श्री राम के वनवास की कथा सुनाकर श्रद्धालुओं को भाव-विभोर कर दिया। उन्होंने बताया कि प्रभु राम को 14 वर्ष का वनवास हुआ। इस काल के दौरान भगवान श्रीराम ने तमाम ऋषि-मुनियों से शिक्षा और विद्या ग्रहण की और तपस्या की। भारत के आदिवासी, वनवासी और तमाम तरह के भारतीय समाज को संगठित कर उन्हें धर्म के मार्ग पर चलाया। भगवान श्रीराम ने समूचे भारत को एक ही विचारधारा के सूत्र में बांधा। लेकिन इस दौरान उनके साथ कुछ ऐसा भी घटा जिसने उनके जीवन को बदल कर रख दिया। रामचरितमानस में तुलसीदास ने उल्लेखित किया कि वनवास के पश्चात भगवान राम ने अपनी यात्रा अयोध्या से प्रारंभ करते हुए रामेश्वरम और उसके बाद श्रीलंका में समाप्त की। प्रयागराज से 20 किलोमीटर दूर वह श्रृंगवेरपुर पहुंचे जो निषादराज का राज्य था। यहीं पर गंगा के तट पर उन्होंने केवट से गंगा पार करने को कहा। गंगा पार कर श्रीराम कुरई में रुके। कुरई से आगे चलकर भैया लक्ष्मण और प|ी सीता सहित प्रयाग पहुंचे।

X
Shahbad News - haryana news rama execution context
COMMENT