Hindi News »Haryana »Mewat» 42 साल बाद 40 करोड़ रुपए से बदलेगा बिजली का स्ट्रक्चर, नंगे तारों से होने वाले हादसे रुकेंगे

42 साल बाद 40 करोड़ रुपए से बदलेगा बिजली का स्ट्रक्चर, नंगे तारों से होने वाले हादसे रुकेंगे

मेवात जिले के बिजली स्ट्रक्चर को नया रूप देने के लिए 40 करोड़ रुपए खर्च कर सभी पुराने ट्रांसफार्मर व तारों को बदला...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 02:05 AM IST

मेवात जिले के बिजली स्ट्रक्चर को नया रूप देने के लिए 40 करोड़ रुपए खर्च कर सभी पुराने ट्रांसफार्मर व तारों को बदला जाएगा। मेवात जिले में 42 साल बाद शहर की बिजली व्यवस्था को अपग्रेड किया जाएगा। बिजली विभाग के बदले स्वरूप के बाद मेवात के लोगों की बिजली कम मिलने की शिकायत पर विराम लगने की संभावना है।

मेवात जिले के लोगों को साल 1972 में बिजली नसीब हुई थी। उसके बाद से आज तक बिजली के तारों व पोलों को बदला नहीं गया। जर्जर बिजली के तारों के चलते मेवात के कई लोग हादसों के शिकार हो चुके हैं। कई बार लगाई अधिकारियों से फरियाद

कई बार इन्हें बदलने की मांग सरकार के नुमाइंदों से की गई, लेकिन किसी ने पुराने बिजली स्ट्रक्चर को बदलने की पहल नहीं की। लंबे समय बाद सरकार की ओर से मेवात में पुराने जर्जर तारों व ट्रांसफार्मरों को बदलने का काम शुरू किया गया है। जिससे अब जनता को काफी राहत मिलने की उम्मीद है।

अपग्रेडेशन

दीनदयाल उपाध्याय योजना व ऊर्जा मित्र योजना के तहत मेवात में बिजली विभाग सूरत सुधारने को करेगा काम

लाइन लॉस को समाप्त करना होगा प्राथमिकता

जिले में बिजली तारों, ट्रांसफार्मरों, सीसीटीवी कैमरों पर केंद्र व प्रदेश सरकार की भिन्न-भिन्न योजनाओं के तहत लगभग 40 करोड़ रुपए की राशि खर्च की जाएगी। इन योजनाओं पर तेज गति से काम शुरू किया जा चुका है। सरकार व विभाग का उद्देश्य लाइन लॉस समाप्त कर मेवात के ग्रामीण आंचल को ज्यादा से ज्यादा बिजली देना है। -सतबीर यादव, एक्सईएन, जिला बिजली विभाग।

बिजली बिल मोबाइल से होंगे कनेक्ट

ऊर्जा मित्र योजना के अंतर्गत सभी बिजली उपभोक्ता आधार कार्ड से जोड़े जाएंगे, जिससे विभाग द्वारा हर उपभोक्ता का बिजली बिल मोबाइल पर भेजा जाएगा। इसके अलावा बिजली जाने से पूर्व हर उपभोक्ता को बिजली कब आएगी, कब नहीं आएगी, की भी जानकारी मोबाइल पर मैसेज भेजकर दी जाएगी।

अर्बन के साथ-साथ रूरल में भी बदलाव

दीनदयाल उपाध्याय योजना के अंतर्गत जिले के 315 गांवों में लगे पुराने तार बदलकर प्रत्येक गांव में नई केबिल लाइन डाली जाएगी। इसके अलावा 75 हजार कुंडी कनेक्शनों को मात्र 200 रुपए जमा कर नए कनेक्शन व मीटर लगाए जाएंगे। जिससे गांवों में बिजली चोरी पर अंकुश लगाया जा सकेगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Mewat

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×