• Hindi News
  • Haryana
  • Mewat
  • अब एजुसेट पर एलीमेंट्री के बच्चों के लिए ड्रामा आधारित विषय सामग्री होगी प्रसारित, ताकि वे आसानी से समझें
--Advertisement--

अब एजुसेट पर एलीमेंट्री के बच्चों के लिए ड्रामा आधारित विषय सामग्री होगी प्रसारित, ताकि वे आसानी से समझें

एलीमेंट्री स्तर पर पढ़ाई को और रुचिकर बनाने के लिए अब ड्रामा के जरिए बच्चों को विषय वस्तु समझाई जाएगी। इसमें...

Dainik Bhaskar

Mar 19, 2018, 02:05 AM IST
अब एजुसेट पर एलीमेंट्री के बच्चों के लिए ड्रामा आधारित विषय सामग्री होगी प्रसारित, ताकि वे आसानी से समझें
एलीमेंट्री स्तर पर पढ़ाई को और रुचिकर बनाने के लिए अब ड्रामा के जरिए बच्चों को विषय वस्तु समझाई जाएगी। इसमें संबंधित विषय और विषय के सपोर्ट में ड्रामा/नाटक की रिकॉर्डिंग कर एजुसेट पर प्रसारित किया जाएगा। इसे जुलाई से एजुसेट पर प्रसारित करने की योजना है। अभी एजुसेट पर लेक्चर प्रसारित किया जाता है।

शिक्षा में गुणात्मक सुधार लाने के लिए शिक्षा विभाग अब एक नया प्रयोग करने जा रहा है। अब विभाग आर्ट समेकित शिक्षा (नाट्यकला/रोल प्ले) के जरिए गंभीर विषयों की जानकारी बच्चों को देगा। इसके लिए राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) की एजुकेशन टेक्नोलॉजी विंग (ईटी) काम पर जुट गई है। ईटी विंग की प्रभारी पूनम भारद्वाज ने बताया कि इसमें विषय के साथ सामान्य विषयों पर ड्रामा तैयार किया जाएगा। इससे बच्चों को विषय को रुचिकर ढंग से पेश किया जा सकेगा और उन्हें समझने में आसानी होगी। प्रभारी ने बताया कि इसके लिए एससीईआरटी की आर्ट विंग के दिवाकर दास व पूनम सिंह का सहयोग लिया जा रहा है। जिससे की विभिन्न विषयों की मौलिकता के साथ बेहतर तरीके से नाटक के रूप में तैयार किया जा सके। एससीईआरटी में एजुसेट के राज्य समन्वयक मनोज कौशिक ने बताया कि इसके लिए 17 सब्जेक्ट की स्क्रिप्ट तैयार कराई गई है। इसमें गणित,संस्कृत के नाटक,कन्या भ्रूण हत्या,गुड एंड बैच टच जैसे अन्य स्क्रिप्ट है। विशेषज्ञों ने आठ स्क्रिप्ट फाइनल कर एनसीईआरटी दिल्ली को भेज दिया गया है। मनोज ने बताया कि इसमें भाषा, सामाजिक अध्ययन, गणित और विज्ञान विषय शामिल है। विषय के नाट्य रूपांतरण होने से बच्चों की विषय में रुचि बनी रहेगी। नाटक को एनसीईआरटी दिल्ली के स्टूडियो में रिकॉर्ड किया जाएगा। एससीईआरटी की योजना के तहत जून तक रिकॉर्डिंग पूरी करने का लक्ष्य है, जिससे कि जुलाई से एलीमेंट्री(कक्षा 1 से 8वीं तक) एजुसेट पर प्रसारण किया जा सके। इसमें सरकार की सहयोगी संस्था उत्कर्ष सोसाइटी पंचकूला भी सहयोग कर रही है।

डायट के छात्र नाटक में रोल अदा करेंगे

इसमें जिला शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान (डायट) के छात्रों को नाटक के लिए तैयार किया जाएगा। जिससे की वह स्क्रिप्ट के अनुसार नाटक/ड्रामा में रोल अदा कर सकें। इसमें डीएड के छात्र पात्र बनकर रोल अदा करेंगे। इसकी रिकॉर्डिंग की जाएगी। पहले स्क्रिप्ट व पात्रों का चयन होगा। उसके बाद रिकॉर्डिंग होगी। ड्रामे के माध्यम से बच्चों तक सरल शिक्षा पहुंचाने का विभाग का प्रयास है।

गुड़गांव. सरकारी स्कूल में एजुसेट पर प्रधानमंत्री का भाषण सुनते बच्चे। (फाइल फोटो)

अभी एजुसेट से टीचर्स के रिकॉर्डेड लेक्चर किए जाते हैं प्रसारित

शिक्षा विभाग ने सभी सरकारी स्कूलों एजुसेट व डीटीएच उपलब्ध करा रखा है। इसके जरिए बच्चों को विभिन्न विषय पर टीचर्स के लेक्चर रिकॉर्ड कर प्रसारित होते हैं। इस प्रकार के लेक्चर एलीमेंट्री (कक्षा 1 से 8वीं तक) स्तर पर बच्चों के लिए प्रभावी नहीं होते। इसके चलते विभाग ने छोटी कक्षाओं में शिक्षा को रुचिकर बनाने के लिए इस तरह के प्रयोग करने की तैयारी की है। लर्निंग इनहांसमेंट कार्यक्रम के तहत भी प्राइमरी कक्षाओं के शिक्षकों को परंपरा से हटकर बच्चों को पढ़ाने के लिए तैयार किया जाता रहा है।


राष्ट्रीय निर्धनता सह मेरिट छात्रवृत्ति परीक्षा में गुड़गांव के 108 छात्र, जबकि मेवात के 11 हुए सफल, हिसार से सबसे अधिक 249

भास्कर न्यूज | गुड़गांव

राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) ने राष्ट्रीय निर्धनता सह मेरिट छात्रवृत्ति परीक्षा नवंबर 2017 का अस्थायी परिणाम घोषित कर दिया है। परीक्षा में कुल 1919 छात्र सफल हुए हैं। इसमें गुड़गांव जिले से 108,फरीदाबाद 29, नूंह (मेवात) से 11 व पलवल के 22 छात्र शामिल हैं। प्रदेश में हिसार जिले में सबसे अधिक 249 व कम मेवात में 11 छात्र अस्थायी रूप से सफल हुए हैं।

नवंबर 2017 का अस्थायी परिणा जारी किया

एससीईआरटी की निदेशक ज्योति चौधरी ने बताया कि राष्ट्रीय निर्धनता सह मेरिट छात्रवृत्ति परीक्षा नवंबर 2017 का अस्थायी परिणाम जारी कर दिया गया है। इसमें सरकारी और सरकारी सहायता प्राप्त स्कूलों के छात्र शामिल हैं। परीक्षा में कुल 1919 छात्र सफल हुए थे। इसमें सामान्य वर्ग के 885, अनुसूचित वर्ग के 467, सीबी-ए वर्ग के 373 व बीसी-बी वर्ग 194 छात्र शामिल हैं। परीक्षा विंग की प्रभारी सुनीता रांगी ने बताया कि सभी संभावित चयनित परीक्षार्थियों की पात्रता, प्रमाण पत्रों (जाति/अशक्तता/वार्षिक आय व अंकों की प्रतिशत) की जांच होगी। परीक्षा के दौरान कुछ परीक्षार्थियों ने प्रमाण पत्र सक्षम अधिकारी द्वारा नहीं बनवाए थे। ऐसे में जिन छात्रों के प्रमाण पत्र सही होंगे उन्हें सफल मना जाएगा। इसके लिए सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को चयनित छात्रों की सूची भेज दी गई है। जिससे छात्रों के संबंधित कागजात जांच कर ले। इसके बाद सफल हुए छात्रों को छात्रवृत्ति दी जाएगी। विंग के सुनील वशिष्ठ ने बताया कि कक्षा आठ में पढ़ने वाले छात्र इस परीक्षा में पिछले शामिल हुए थे। सफल होने वाले छात्रों को हर माह पांच सौ रुपये की छात्रवृत्ति 12वीं तक दी जाएगी। इसके तहत सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले मेधावी छात्रों को प्रोत्साहित किया जाता है।

जिलेवार अस्थायी सफल छात्र

अंबाला-102, भिवानी-56, चरखी दादरी-56, फरीदाबाद-29, गुड़गांव-108, हिसार 249, झज्जर-40, जींद-125, कैथल-88, करनाल-88, कुरुक्षेत्र-78, महेंद्रगढ़-247, पंचकूला-30, पानीपत-89, रेवाड़ी-160, रोहतक-93, सिरसा-132, सोनीपत-47, यमुनानगर-36, नूंह-11 व पलवल के 22 छात्र शामिल है। गुड़गांव में सामान्य 60, बीसी-ए 15, बीसी बी-11, एसी के 22 छात्र हैं। फरीदाबाद जिले में सामान्य वर्ग के13, एसी वर्ग के 9, बीसी-ए 5 व बीसी-बी 2 छात्र शामिल हैं। नूंह में सामान्य के दो, बीसी-बी के चार व एससी के पांच छात्र शामिल है। पलवल जिले में सामान्य के पांच, सीबी ए- 4 व एससी के 13 छात्र है।

(फाइल फोटो)

X
अब एजुसेट पर एलीमेंट्री के बच्चों के लिए ड्रामा आधारित विषय सामग्री होगी प्रसारित, ताकि वे आसानी से समझें
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..