• Home
  • Haryana News
  • Mewat
  • Mewat - शहर में मिला-जुला असर दिखा, सुबह 2 घंटे के लिए बंद रहा बाजार, बाद में खुला
--Advertisement--

शहर में मिला-जुला असर दिखा, सुबह 2 घंटे के लिए बंद रहा बाजार, बाद में खुला

पेट्रोल-डीजल लगातार महंगा होने के विरोध में कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी दलों ने सोमवार को भारत बंद रखा। गुड़गांव...

Danik Bhaskar | Sep 11, 2018, 03:15 AM IST
पेट्रोल-डीजल लगातार महंगा होने के विरोध में कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी दलों ने सोमवार को भारत बंद रखा। गुड़गांव में बंद का खास असर नहीं दिखा। सुबह दो घंटे तक बंद का असर सदर बाजार में दिखा, इसके बाद बाजार, रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड व चौक चौराहों सहित पेट्रोल पंप भी सामान्य रूप से चलते रहे। अस्पताल में भी कोई कैजुअल्टी वाला केस नहीं पहुंचा। ऐसे में कांग्रेस सहित विपक्षी दलों के भारत बंद का असर मामूली रहा और लोगों ने शांतिपूर्ण विरोध दर्ज कराया।

कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी दलों के बंद के दौरान कहीं कोई हिंसात्मक घटना नहीं हुई। हालांकि पुलिस ने एहतियात के तौर पर सभी थानों की पुलिस को चौक-चौराहों, अस्पताल, रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड पर तैनात किया था। दूसरी ओर भारत बंद को लेकर लोगों में कुछ भ्रम की स्थिति रही, जिससे सुबह के वक्त रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड पर कम संख्या में लोग पहुंचे। सुबह 9.30 बजे गुड़गांव रेलवे स्टेशन के 5 आरक्षण काउंटर में से तीन ही खुले। हालात ये थे कि वहां मात्र तीन यात्री ही खड़े थे। जबकि आम दिनों में खासकर सोमवार को आरक्षण काउंटरों पर काफी भीड़ रहती है। बस स्टैंड पर भी यात्रियों की संख्या सुबह रोज के मुकाबले करीब 30 फीसदी रही।

दोपहर बाद अपने घरों से बाहर निकले लोग

वहीं भारत बंद के कम असर को देखते हुए गुड़गांव में दोपहर बाद बाजार से लेकर बस स्टैंड व रेलवे स्टेशन पर भीड़ बढ़ती चली गई। ऐसे में भारत बंद का असर केवल दो घंटे तक ही शहर में दिखा।

गुड़गांव| बेरोजगारी व महंगाई के विरोध में मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) व सोशलिस्ट यूनिटी सेंटर ऑफ इंडिया के कार्यकर्ताओं ने सोमवार को प्रदर्शन कर नुक्कड़ सभा का आयोजन किया। पार्टी के एसएल प्रजापति, ऊषा सरोहा, लालमती, सूरज, श्रवण कुमार, बलवान सिंह ने सभा को संबोधित किया। सभी ने प्रदेश सरकार पर निशाना साधा, कहा कि पेट्रोल-डीजल व गैस के दाम लगातार बढ़ रहे हैं। सरकार बढ़ती महंगाई रोकने में नाकाम है। किसान,मजदूर परेशान हैं। श्रमिकों के साथ भेदभाव हो रहा है। सरकार ने कंपनी प्रबंधनों को खुली छूट दी है कि वे जब चाहें तालाबंदी कर दें और श्रमिकों को निकाल दें। सरकार पूंजीपतियों का साथ दे रही है। लोगों का ध्यान बांटने के लिए गाय, मंदिर व आरक्षण पर राजनीति की जा रही है।

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने भी सरकार की नीतियों का विरोध किया

हाथ जोड़ व्यापारियों से समर्थन मांगा

गुड़गांव. पेट्रोल-डीजल के लगातार बढ़ते दामों और बढ़ती महंगाई के विरोध में शहर के सदर बाजार में व्यापारियों से दुकानें बंद कर भारत बंद को सफल बनाने का आग्रह करते कांग्रेस पार्टी के पदाधिकारी और कार्यकर्ता।

मेवात में दिखा असर: व्यापारियों का मिला समर्थन

नूंह/फिरोजपुर झिरका | कांग्रेस के भारत बंद का मेवात में व्यापक असर दिखा। पूरे बाजार बंद रहे और लोगों ने कांग्रेस के भारत बंद का समर्थन किया। नूंह मेवात में कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष आफताब अहमद ने कहा कि मेवात का हर वर्ग भाजपा व उसके कुशासन से त्रस्त है। मेवात के व्यापारियों, दुकानदारों और आम जन का सहयोग काबिल-ए-तारीफ है। बंद भाजपा की जड़े हिलाने का काम करेगा।

इधर, फिरोजपुर झिरका में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री कैप्टन अजय यादव ने सोमवार को बंद की कमान संभाली। बाजार में व्यापारियों के बीच जाकर समर्थन मांगा। पूर्व मंत्री ने पीएम मोदी की चुप्पी पर भी सवाल उठाए। इस दौरान महिला कांग्रेस अध्यक्ष मोहम्मदी बेगम भी मौजूद रहीं।

शहर में पुलिस के 2500 जवान रहे तैनात

गुड़गांव पुलिस के पीआरओ सुभाष बोकन ने कहा कि शहर के चौक चौराहों, सदर बाजार, अस्पताल, रेलवे स्टेशन व बस स्टैंड के लिए सभी थानों व चौकियों के अलावा अतिरिक्त पुलिस बल भेजा गया था। कोई भी हिंसात्मक घटना या बंद का असर नहीं दिखा। शहर में करीब 2500 पुलिसकर्मी तैनात किए गए थे।


दुकानें बंद करने का किया आग्रह

रिक्शे पर सवार होकर

किया प्रदर्शन

सदर बाजार में रिक्शे पर सवार होकर प्रदर्शन करते कांग्रेसी।

सदर बाजार में सुबह 10 बजे पहुंचे कांग्रेसी नेता

सदर बाजार बंद कराने के लिए सुबह 10 बजे कांग्रेसी नेता प्रदीप जेलदार, रोहताश बेदी सहित दर्जनों कार्यकर्ता पहुंचे, लेकिन व्यापारियों ने तब तक बाजार नहीं खोला। इस दौरान बाजार में कुछ दुकानें खुली मिली। लेकिन कुछ व्यापारियों ने नेताओं के सामने कहा कि संडे को बाजार वैसे ही आधा बंद रहता है और सोमवार को भारत बंद होने के कारण बंद रखें तो काम कैसे चलेगा। इस पर कांग्रेस के नेतओव्यापारियों ने माना कि पेट्रोल पदार्थों के रेट बढ़ने से महंगाई बढ़ रही है। इसके लिए वे बंद का समर्थन करते हैं। दोपहर 11.30 बजे तक कांग्रेसी नेता बाजार में रहे तो दुकानें नहीं खुलीं, लेकिन उनके बाजार से निकलते ही दुकानें खुलने लगीं। कांग्रेसी नेताओं ने बंद को शांतिपूर्ण रखने के लिए जबरदस्ती नहीं की और वे दोपहर बाद अपने घर लौट गए।

कांग्रेस के बंद के आह्वान को जनता ने नकारा: जीएल शर्मा

महंगाई को लेकर कांग्रेस और विपक्षी दलों के बंद को भाजपा ने असफल करार दिया। हरियाणा डेयरी प्रसंघ के चेयरमैन व वरिष्ठ भाजपा नेता जीएल शर्मा ने कहा कि बंद के आह्वान को जनता ने नकार दिया है। देश व हरियाणा की जनता को पता है कि कांग्रेस और विपक्ष की नीयत में खोट है। प्रदेश में नेता विहीन कांग्रेस के कार्यकर्ता भी बंद से दूर रहे।