--Advertisement--

26 को शुरू करना था काम, एजेंसी को नोटिस

Murthal News - घर-घर से कचरा उठान और मुरथल में कूड़ा प्रबंधन प्लांट बनाने को लेकर सरकार का 26 सितंबर 2017 में जेबीएम समूह से समझौता...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:35 AM IST
26 को शुरू करना था काम, एजेंसी को नोटिस
घर-घर से कचरा उठान और मुरथल में कूड़ा प्रबंधन प्लांट बनाने को लेकर सरकार का 26 सितंबर 2017 में जेबीएम समूह से समझौता हुआ। आश्वासन दिया गया कि 26 जनवरी को शहर से डोर-टू-डोर कलेक्शन का काम एजेंसी संभालेगी। तय अवधि के बाद भी पांच दिन बीत चुके हैं, लेकिन एजेंसी की सोनीपत में कोई कार्रवाई शुरू नहीं हुई। निगम प्रशासन ने संबंधित एजेंसी को नोटिस भेजा है। अगले सप्ताह बाद स्वच्छता सर्वेक्षण भी होना है। ऐसे में निगम अधिकारी शहर की रैंकिंग को लेकर परेशान हैं।

जब समझौता हुआ तभी कैबिनेट मंत्री कविता जैन ने हिदायत दी कि कार्य तय समय अवधि में शुरू किया जाए। इस परियोजना का निर्माण कार्य 21 माह का समय दिया गया है, जबकि चारदीवारी और सड़क निर्माण का कार्य नगर निगम पूरा कर चुका है। एजेंसी के काम को लेकर फॉलोअप मामले में स्थानीय प्रशासन की कमजोर पकड़ का यह इकलौता मामला नहीं है। इससे पहले होर्डिंग ठेका एजेंसी काम अधर में छोड़कर चली गई थी। वहीं, प्रॉपटी टैक्स सर्वे करने वाली पंजाब की एजेंसी भी महीनों तक काम शुरू नहीं किया, बाद में निगम को एजेंसी ही बदलनी पड़ गई।

सोनीपत . नगर निगम कर्मचारी सफाई करते हुए।

कचरा उठान को लेकर रेट की घोषणा भी नहीं कचरा उठान की जिम्मेदारी एजेंसी की है, लेकिन यह नि:शुल्क नहीं रहेगा। शहरवासियों से कचरा उठान की वसूली होगी। 15 से लेकर 50 रुपए की वसूली भवन साइज के आधार पर होनी है, लेकिन यह रेट क्या होंगे, इसकी घोषणा नहीं हो सकी है।

जल्द काम शुरू करने की हिदायत


जानिए... ये हुआ है समझौता

योजना के परिचालन के लिए हरियाणा सरकार एवं जेबीएम समूह के मध्य सीएम मनोहर लाल खट्टर की मौजूदगी में 26 सितंबर माह में समझौता हुआ था। सोनीपत-पानीपत की इस संयुक्त परियोजना में जेबीएम समूह कुल 176.87 करोड़ निवेश करने जा रहा है। इसके लिए 21 महीने का समय दिया था। समझौते के तहत मुरथल में कचरा निस्तारण विद्युत उत्पादन संयत्र स्थापित किया जाना है। संयत्र प्रतिदिन 500 टन कचरा का निस्तारण के अलावा पांच मेगावाट बिजली उत्पादन भी करेगा। इससे सोनीपत,गन्नौर, समालखा व पानीपत के कचरे का निस्तारण किया जाएगा।

स्वच्छता सर्वेक्षण में पहली ही हालत कमजोर : स्वच्छता सर्वेक्षण यूं तो अभी सोनीपत में शुरू नहीं हुआ है, लेकिन सोनीपत की मौजूदा स्थिति बहुत बेहतर नहीं है। क्योंकि सर्वेक्षण में मुख्य रूप से जहां कचरा निस्तारण, डोर-टू-डोर कलेक्शन और जन सर्वे ही सर्वाधिक अंक हैं और दोनों में ही सोनीपत की हालत पतली है।

X
26 को शुरू करना था काम, एजेंसी को नोटिस
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..