• Home
  • Haryana News
  • Murthal
  • कॉलेजों में पांच साल से जमे प्राध्यापकों के होंगे तबादले
--Advertisement--

कॉलेजों में पांच साल से जमे प्राध्यापकों के होंगे तबादले

स्कूलों के बाद राजकीय कॉलेजों के तबादले भी अब ऑनलाइन होंगे। जिसमें अंकों के आधार पर प्राध्यापकों को वरीयता दी...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:35 AM IST
स्कूलों के बाद राजकीय कॉलेजों के तबादले भी अब ऑनलाइन होंगे। जिसमें अंकों के आधार पर प्राध्यापकों को वरीयता दी जाएगी। इसमें ग्रामीण शिक्षा में सुधार पर विशेष जोर रहेगी। ग्रामीण क्षेत्रों के कॉलेजों में खाली पड़ी सीटों पर नियुक्ति की जाएगी। शहरी क्षेत्रों में पांच साल से अधिक समय से जमे शिक्षकों का बड़े पैमाने पर तबादला कर ग्रामीण क्षेत्रों के कॉलेजों में भेजा जाएगा। इसके लिए सभी प्राध्यापकों को नई तबादला नीति की डिटेल भेज दी गई है, जिसके आधार पर प्राध्यापक भी अपनी रिपोर्ट बनाने में जुट गए हैं।

जानकारी के अनुसार स्थानांतरण नियमावली में प्रदेश को दो जोन में बांटा गया है। अध्यापन क्षेत्र से जुड़े कर्मचारियों से तबादले के लिए पसंदीदा स्थानों के बारे में बताने के लिए कहा है। स्थानांतरण नियमावली के मुताबिक पांच साल से अधिक समय से एक स्थान पर जमे हुए शिक्षक इसके दायरे में आएंगे। शिक्षकों को ग्रामीण क्षेत्र के 10 कॉलेजों का चुनाव करना होगा जहां पर स्थानांतरण चाहते हैं। शिक्षक की ओर से चयनित कॉलेजों में से किसी एक जगह पर उनका स्थानांतरण किया जाएगा। हालांकि ग्रामीण क्षेत्र के कॉलेजों के साथ शहरी क्षेत्र के कॉलेजों के भी विकल्प मांगे हैं, लेकिन सबसे पहले ग्रामीण क्षेत्र के कॉलेजों में नियुक्ति की जाएगी। ऐसा पहली बार है जब ग्रामीण क्षेत्र के कॉलेजों को विकल्प में भरने के निर्देश दिए गए हैं। महिला प्राध्यापकों को विशेष महत्व दिया जाएगा।

एक जून से होंगे तबादले

तबादलों की शुरुआत 1 जून से होगी। 30 जून तक सभी के तबादले की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। इससे पहले तबादले के लिए शिक्षकों को ऑनलाइन विकल्प भरने होंगे।

जिले के अधिकांश आएंगे दायरे में : नई स्थानांतरण नियमावली के दायरे में जिले के अधिकांश प्राध्यापक आने की संभावना हैं। जिले के तीन कालेजों में करीब 90 प्राध्यापक तैनात हैं। इनमें से करीब 60 से अधिक शिक्षकों को पांच साल से अधिक का वक्त एक ही कॉलेज में हो चुका है। ऑनलाइन प्रक्रिया और नई नियमावली के चलते इस बार तबादले होना तय है।