Hindi News »Haryana »Narnaul» निर्माण के 1 माह बाद ही पब्लिक टॉयलेटों में लगे ताले, कर्मी नदारद

निर्माण के 1 माह बाद ही पब्लिक टॉयलेटों में लगे ताले, कर्मी नदारद

स्वच्छ भारत मिशन के तहत लाखों रुपए खर्च कर जिला मुख्यालय पर बनाए गए सामुदायिक शौचालय देखरेख के अभाव में ठप पड़े...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 02:35 AM IST

निर्माण के 1 माह बाद ही पब्लिक टॉयलेटों में लगे ताले, कर्मी नदारद
स्वच्छ भारत मिशन के तहत लाखों रुपए खर्च कर जिला मुख्यालय पर बनाए गए सामुदायिक शौचालय देखरेख के अभाव में ठप पड़े हैं। स्थिति यह है कि शौचालयों में न पानी की कोई व्यवस्था है और न ही सफाई की कोई व्यवस्था है। ऐसे में नगरवासी चाह कर भी इन शौचालयों का इस्तेमाल नहीं कर पा रहे हैं। जबकि नगर परिषद अधिकारियों का दावा है कि सार्वजनिक शौचालयों में नियमित सफाई करवाई जा रही है और नियमित पानी डाला जा रहा है।

नगर परिषद कार्यालय नारनौल के रिकार्ड के अनुसार अक्टूबर व नवंबर 2017 में शहर में 19 प्वाइंटों पर शौचालयों का निर्माण करवाया था। इनमें 12 पब्लिक शौचालय व 7 कम्युनिटी शौचालय शामिल हैं। इसके अलावा तीन चलते-फिरते मोबाइल शौचालय खरीदे गए थे। इन शौचालयों के निर्माण पर लाखों रुपए खर्च किए गए थे। इसके बाद नगर परिषद ने शहर को खुले में शौच मुक्त (ओडीएफ) घोषित कर दिया था। दैनिक भास्कर टीम ने शुक्रवार को जब शहर के सार्वजनिक शौचालयों का निरीक्षण किया तो वहां किसी भी शौचालय में न पानी की कोई व्यवस्था थी और न ही सफाई की।

नारनौल. मोहल्ला महल मिश्रवाड़ा में छलक नाले पर बने शौचालय और धोबीघाट पर बने शौचालयों पर लगे ताले।

नप को सौंपी गई थी जिम्मेदारी

सरकार ने इन सार्वजनिक शौचालयों की देखरेख की जिम्मेदारी नगर परिषद को सौंपी थी। इसके तहत नगर परिषद को इन शौचालयों की नियमित सफाई व पानी की उचित व्यवस्था करवाना था। इसके लिए नगर परिषद ने स्पेशल 8 कर्मचारियों की नियुक्ति भी की थी। शुरुआत में 1 महीने तक तो नगर परिषद ने इन शौचालयों की देखरेख की, लेकिन इसके बाद नगर परिषद अधिकारियों ने शौचालयों की देखरेख पर ध्यान देना बंद कर दिया। इससे शौचालयों में भारी गंदगी फैली हुई है।

अफसरों का नियमित सफाई के दावे

शौचालय सफाई इंचार्ज महेंद्र चौहान ने बताया कि शौचालयों की नियमित सफाई के लिए 8 कर्मचारियों की नियुक्ति की गई है। जो नियमित सफाई कर रहे हैं। इन शौचालयों में पानी डालने के लिए दो टैंकर लगाए गए हैं। पानी भी नियमित रुप से डाला जा रहा है। एक टैंकर दो-तीन दिन से खराब है। ऐसे में अब एक टैंकर से पानी डाला जा रहा है।

लोग बोले

शहर के दशमेश नगर निवासी सुरेंद्र कुमार व दुर्गा प्रसाद ने बताया कि यहां बने शौचालय में पिछले करीब डेढ़ महीनों से न पानी डाला जा रहा है और न ही सफाई की जा रही है। इसके चलते इन शौचालयों में गंदगी फैली हुई है।

शहर के नेताजी सुभाषचंद्र बोस स्टेडियम के किट दुकान चलाने वाले रामबिलास ने बताया कि यहां बने शौचालय में बनने के एक/दो बार जरूर पानी डाला गया था। अब करीब 2 महीनों से शौचालय में न पानी डाला जा रहा है और न ही सफाई की जा रही है। शौचालय में लगी टाेंटी भी कई दिनों से टूटी पड़ी है।

धोबी जोहड़ के निकट रह रहे अशोक कुमार ने बताया कि नप ने यहां शौचालय के सात बूथ लगाए हैं, लेकिन पानी व सफाई की व्यवस्था न होने के कारण लोगों को मजबूर खुले में शौच जाना पड़ रहा है। शौचालय की टाेंटी भी तोड़ की गई है।

शहर के मियां की सराय निवासी पवन कुमार ने बताया कि नगर परिषद द्वारा सीनियर सेकेंडरी स्कूल की चारदीवारी के साथ एक शौचालय बूथ लगाया गया है, लेकिन इस शौचालय के रखने के बाद से लेकर आज एक बार भी पानी नहीं डाला गया है। ऐसे में यह शौचालय बेकार पड़ा है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Narnaul

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×