• Home
  • Haryana News
  • Nijampur
  • निजामपुर क्षेत्र के 50 गांव आज भी नहरी पानी से वंचित
--Advertisement--

निजामपुर क्षेत्र के 50 गांव आज भी नहरी पानी से वंचित

नहरी पानी किसान संघर्ष समिति की ओर से 2 अप्रैल को डीसी को किसानों की मांगों का ज्ञापन दिया जाएगा। समिति के प्रधान...

Danik Bhaskar | Mar 30, 2018, 02:50 AM IST
नहरी पानी किसान संघर्ष समिति की ओर से 2 अप्रैल को डीसी को किसानों की मांगों का ज्ञापन दिया जाएगा। समिति के प्रधान महावीर सिंह के नेतृत्व में गुरुवार गांव नारेली, धानोता, करौली, मारोली, निजामपुर, छिलरो नियाज अलीपुर में किसानों को 2 अप्रैल के जिला कार्यालय में पहुंचने का निमंत्रण दिया गया। उन्होंने कहा कि अधिक से अधिक संख्या में जिला उपायुक्त कार्यालय में सुबह 10 बजे से पहले पहुंचे।

डीसी को मुख्यमंत्री के ज्ञापन देंगे उसके बाद आगे की रणनीति के बारे में वहीं पर फैसला लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि इलाके में नहरी पानी की समस्या को लेकर 31 जनवरी को निजामपुर में महापंचायत का आयोजन किया गया था जिसमें स्थानीय विधायक डाक्टर अभय सिंह का आमंत्रित किया गया था, लेकिन वह नहीं पहुंचे। उसके बाद किसानों की मांग मुख्यमंत्री को फैक्स द्वारा भेजी गई थी लेकिन अभी तक कोई समाधान नहीं होने के कारण नहरी पानी किसान संघर्ष समिति 2 अप्रैल को जिला उपायुक्त कार्यालय में धरना देकर मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा जाएगा। उन्होंने बताया अगर फिर भी समाधान नहीं हुआ तो नहरी पानी से किसान संघर्ष समिति अपने की मांगों को लेकर जेल भरो आंदोलन की रूपरेखा तैयार करेगा। उन्होंने कहा कि आज हरियाणा प्रदेश में कोई पिछड़ा क्षेत्र है तो निजामपुर क्षेत्र के 50 गांव आज भी नहरी पानी से वंचित है जबकि हमारी सरकार यह कह रही है कि हमने टेल तक पानी पहुंचा दिया है।

सच तो यह है कि हसनपुर डिस्ट्रीब्यूटर के आखिरी छोर धानोता वह क्षेत्र में अभी तक पानी नहीं पहुंचा है। यही हालत दोचाना डिस्ट्रीब्यूटर की है शहबाजपुर नोलपुर डिस्ट्रीब्यूटर में अभी आखरी छोर तक नहरी पानी नहीं पहुंचा है। हमारे विधायक डाक्टर अभय सिंह व सरकार की कथनी और करनी में बहुत अंतर है। आज पूरा क्षेत्र सूखाग्रस्त पड़ा है, लेकिन हमारा विधायक ने अभी तक क्षेत्र के सूखाग्रस्त की मांग को मुख्यमंत्री के सामने नहीं रखा है। क्षेत्र के किसानों की फसल की बिजाई में होना और जिन किसानों की जाएगी किसानों की सरसों चने की फसल अंकुरित भी नहीं हो पाई है इसमें सरकार ने किसानों को मुआवजा देना चाहिए