Hindi News »Haryana »Nijampur» ई-पंचायत प्रणाली के विरोध में धरना दूसरे दिन खाली पड़ा रहा पंडाल

ई-पंचायत प्रणाली के विरोध में धरना दूसरे दिन खाली पड़ा रहा पंडाल

हरियाणा सरकार द्वारा ई-पंचायत प्रणाली लागू करने के विरोध में निजामपुर खंड के सरपंच, सरपंच प्रतिनिधियों व ग्राम...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 05, 2018, 03:00 AM IST

हरियाणा सरकार द्वारा ई-पंचायत प्रणाली लागू करने के विरोध में निजामपुर खंड के सरपंच, सरपंच प्रतिनिधियों व ग्राम सचिवों ने बीडीपीओ कार्यालय प्रांगण में मंगलवार से अनिश्चितकालीन धरना शुरू किया था। पहले दिन तो पंडाल भरा भरा नजर आ रहा था, किंतु दूसरे दिन बुधवार वह पूरी तरह खाली रहा। ना तो कोई सरपंच ना सरपंच प्रतिनिधि और ना ही ग्राम सचिव धरने पर पहुंचा।

खास बात यह है कि पंडाल खाली क्यों रहा, इसकी जानकारी कोई देने का तैयार नहीं है। ना तो यूं कहा जा रहा कि धरना समाप्त कर दिया और जारी है। या फिर सरकार की कार्रवाई के डर से कोई आगे नहीं आ रहा है। जब इस बारे में निजामपुर ब्लॉक सरपंच एसोसिएशन की अध्यक्ष सुशीला देवी के पति जयपाल जो कि मंगलवार को धरने की अगुवाई कर रहे थे, उनसे इस बारे में फोन पर बात करनी चाही तो संपर्क नहीं हो पाया। वहीं खंड कार्यालय में नियुक्त ग्राम सचिव रामजीलाल से बात की तो उनका कहना था कि निजामपुर ब्लॉक के सभी 10 ग्राम सचिव अपने-अपने कार्य में लगे हुए हैं। अपने कार्य में कोई भी किसी प्रकार की कोताही नहीं बरत रहा है। सरकार के आदेशों की पालना कर रहे हैं। हम सरकार से अपनी समस्याओं के समाधान की मांग कर रहे हैं। बाकी सरपंचों के बारे में सरपंच ही बता सकते हैं कि वह आज धरने पर क्यों नहीं आए। जब इस बारे में सरपंच एसोसिएशन की प्रधान सुशीला के पति जयपाल सिंह से फोन पर बात नहीं हो सकी। वहीं उपप्रधान लेखराज से जानकारी लेनी चाही तो वो अपने निजी कार्य से बाहर गए हुए थे।

एक दो सरपंचों से भी इस बारे में बात करनी चाही तो कोई भी कुछ भी बोलने को तैयार नहीं था। सब एक दूसरे पर टालमटोल कर रहे थे। उनकी बातों से झलक रहा था कि सरकारी कार्रवाई का डर ही उनको रोके हुए था। वहीं इस संदर्भ में जब निजामपुर खंड के बीडीपीओ प्रमोद कुमार से संपर्क किया तो उनका कहना था कि सरपंचों के साथ बातचीत चल रही है। बातचीत सकारात्मक है। इसलिए धरना प्रदर्शन का कोई औचित्य नहीं है। ज्ञात रहे कि सरकार द्वारा ई पंचायत प्रणाली लागू करने का निर्णय सरपंच व ग्राम सचिवों को रास नहीं आ रहा। इसके विरोध में प्रदेशभर में धरने प्रदर्शन हो रहे हैं। इसी कड़ी में मंगलवार को निजामपुर खंड में भी धरना शुरू किया गया था। धरने पर बैठे सरपंच, सरपंच प्रतिनिधियों व ग्राम सचिवों का कहना था कि सरकार पंचायतों के शोषण पर उतारू है। सरकारी फरमानों के चलते पंचायतों में विकास कार्य नहीं हो पा रहे हैं। सरकार कोई भी नया कानून लागू करने से पहले आवश्यक संसाधन भी उपलब्ध करवाए। उनका कहना था कि उनकी 10 मांगे हैं जिनको जब तक पूरा नहीं किया जाएगा तब तक धरना जारी रहेगा, लेकिन धरना स्थल दूसरे दिन ही खाली हो गया।

निजामपुर. सरपंचों का अनिश्चितकालीन धरने का खाली पड़ा पंडाल।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Nijampur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×