• Hindi News
  • Haryana
  • Nijampur
  • रिहायशी क्षेत्र के समीप पत्थर लीज का ग्रामीणों ने किया विरोध
--Advertisement--

रिहायशी क्षेत्र के समीप पत्थर लीज का ग्रामीणों ने किया विरोध

Dainik Bhaskar

Jun 10, 2018, 02:45 AM IST

Nijampur News - निजामपुर | गांव बायल के ग्रामीणों ने गांव के रिहायशी क्षेत्र के समीप पहाड़ में खनन कार्य की किसी भी संभावना का...

रिहायशी क्षेत्र के समीप पत्थर लीज का ग्रामीणों ने किया विरोध
निजामपुर | गांव बायल के ग्रामीणों ने गांव के रिहायशी क्षेत्र के समीप पहाड़ में खनन कार्य की किसी भी संभावना का विरोध जताया है। इस संदर्भ में ग्रामीणों ने पंचायत कर विधायक को ज्ञापन सौंपा है। इसमें उन्होंने खेवट नंबर 201, 223, 224 जो रिहायशी क्षेत्र मे हैं। पर पत्थर की लीज पर रोक लगवाने की मांग की है। विधायक ने भी ग्रामीणों की मांग का समर्थन करते हुए सरकार से इस पर रोक लगवाने का आश्वासन दिया है।

गांव बायल की सरपंच के प्रतिनिधि बिशंभर, पूर्व सरपंच लाल सिंह, राजेंद्र, श्यामसिंह, रामपाल, नरेश, अशोक, प्रदीप ने विधायक डॉक्टर अभय सिंह को ज्ञापन सौंपा है। इसमें ग्रामीणों ने कहा है कि उक्त जमीन गांव की बसासत सीमा के पास है। यहां पर पत्थर निकालने का कार्य हुआ तो ग्रामीणों को गांव छोड़कर जाना पड़ेगा। उम्मीद है ऐसे में सरकार गांव को उजाड़ने का कार्य नहीं करेगी। ग्रामीणों का कहना है कि लीज होल्डर ने मौके की वास्तविक स्थिति की जानकारी सरकार व विभाग को नहीं देकर लीज अपने नाम करवा ली। यह लीज 35 वर्ष के लिए खेवट नंबर 201, 223 व 224 में 76 हेक्टेयर है। जिस के पास गांव का रिहायशी क्षेत्र आता है। ऐसे में अगर लीज होल्डर इसमें खनन कार्य करेगा तो ग्रामीणों को मुसीबतों का सामना करना पड़ेगा। यह लीज मकानों के समीप है। खनन के लिए की जाने वाली ब्लास्टिंग से मकान गिरने का खतरा है। अगर मकान क्षतिग्रस्त नहीं भी होंगे तो डस्ट व शोर शराब से इस कदर परेशान हो जाएंगे कि उनको गांव छोड़ने पर मजबूर होना पड़ेगा। उन्होंने बताया कि ग्राम पंचायत ने नवंबर 2017 में भी एक प्रस्ताव पास किया था। जिसमें इस क्षेत्र में लीज नहीं लगाने की बात कही गई थी, लेकिन लीज होल्डर ने अपनी पहुंच का फायदा उठाते हुए इस क्षेत्र को भी अपने नाम करवा लिया।

निजामपुर. बायल में लीज होल्डर के खिलाफ पंचायत में उपस्थित ग्रामीण।

X
रिहायशी क्षेत्र के समीप पत्थर लीज का ग्रामीणों ने किया विरोध
Astrology

Recommended

Click to listen..