• Home
  • Haryana News
  • Nijampur
  • निजामपुर खंड में पानी की किल्लत दूर करने के लिए किसान जारी रखेंगे संघर्ष
--Advertisement--

निजामपुर खंड में पानी की किल्लत दूर करने के लिए किसान जारी रखेंगे संघर्ष

किसान संघर्ष समिति की बैठक रविवार को राजकीय सीनियर सेकेंडरी स्कूल निजामपुर के खेल मैदान में प्रधान महावीर सिंह...

Danik Bhaskar | May 07, 2018, 02:55 AM IST
किसान संघर्ष समिति की बैठक रविवार को राजकीय सीनियर सेकेंडरी स्कूल निजामपुर के खेल मैदान में प्रधान महावीर सिंह इस्लामपुर की अध्यक्षता में हुई। बैठक में निजामपुर ब्लाॅक में व्याप्त पानी की किल्लत पर विचार-विमर्श कर सरकार से समाधान कराने की मांग की गई।

बैठक को संबोधित करते हुए प्रधान महावीर ने बताया कि निजामपुर ब्लाॅक के किसानों के साथ सरकार भेदभाव कर रही है। आजादी के 70 साल बाद भी निजामपुर, नांगल चौधरी व दोहान पच्चीसी क्षेत्र नहरी पानी से वंचित हैं। यहां नहरी पानी की तो दूर की बात अभी तक नहर नहीं खोदी गई है। जबकि चुनाव के समय भाजपा हो या कांग्रेस या फिर इनेलो, हर पार्टी के नेता यहां की भोली-भाली जनता से नहरी पानी लाने के नाम पर वोट हथियाते रहे हैं, लेकिन अब इस इलाके के लोग राजनेताओं के झूठे झांसे में नहीं आएंगे।

उन्होंने बताया कि निजामपुर खंड मे नहर खुदवाने एवं नहरी पानी पहुंचाने की मांग को लेकर किसान संघर्ष समिति ने 31 जनवरी 2018 को निजामपुर में 50 गांव के किसानों ने महापंचायत कर पानी मांगा था। इसके बाद 2 अप्रैल को नारनौल में किसानों ने उपायुक्त कार्यालय के सामने धरना प्रदर्शन कर मुख्यमंत्री को ज्ञापन प्रेषित किया था। 14 अप्रैल को चंडीगढ़ से अतिरिक्त मुख्य सचिव कृषि विभाग निजामपुर ब्लाॅक के पिछड़ेपन के कारणों का पता लगाने के लिए आए थे उस समय भी किसान संघर्ष समिति ने किसानों की मांगों का ज्ञापन उनको दिया था, लेकिन इसके बावजूद सरकार द्वारा निजामपुर खंड में नहरी पानी के लिए कोई भी प्रयास नहीं हुआ है। किसान भाई अब अपने हकों के लिए संघर्ष करने के लिए तैयार हो जाएं। अब किसान संघर्ष समिति प्रत्येक गांव में 5-5 किसानों की एक कमेटी बना संघर्ष की आगामी रणनीति बनाई जाएगी। इस मौके पर संघर्ष समिति ने निजामपुर ब्लाॅक को सूखाग्रस्त घोषित कर उचित मुआवजा दिलाने की मांग की। बैठक में विक्रम सिंह बागड़ी, डेडराज नायन, धोलाराम धानोता, जुगलाल प्रधान पवेरा, रोहताश, ओमप्रकाश छिलरो, जयसिंह सरेली, घीसाराम इस्लामपुरा, नरेश सरेली, सतबीर पवेरा, भूपेंद्र छीलरो, सतबीर नापला, सरजीत पवेरा, वीरेंद्र छिलरो, राजेंद्र शर्मा घाटशेर,जगदीश छिलरो, चंद्रहास पवेरा, रामस्वरूप निजामपुर, सुंदरलाल पवेरा, माडूराम, बंशी इस्लामपुरा, जयराम, लालचंद सरपंच व राजेंद्र समेत सैकड़ों गणमान्य लोग मौजूद थे।