Hindi News »Haryana »Nising» दर्जा सीएचसी का, सुविधाएं पीएचसी से भी बदतर

दर्जा सीएचसी का, सुविधाएं पीएचसी से भी बदतर

स्वास्थ्य विभाग की ओर से कई वर्ष पूर्व सीएचसी के विशाल भवन का निर्माण तो कर दिया गया,लेकिन उसमें मरीजों का इलाज...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 10, 2018, 02:45 AM IST

दर्जा सीएचसी का, सुविधाएं पीएचसी से भी बदतर
स्वास्थ्य विभाग की ओर से कई वर्ष पूर्व सीएचसी के विशाल भवन का निर्माण तो कर दिया गया,लेकिन उसमें मरीजों का इलाज करने वाले चिकित्सकों को नियुक्त नहीं किया। जिस कारण क्षेत्र के लोगों के लिए सीएचसी में पीएचसी से भी बदतर सुविधाएं मिल रही हैं। चिकित्सक व अन्य स्टाफ सदस्यों के अभाव में क्षेत्र के लोगों के लिए सीएचसी महज नाम की बनकर रह गई है। क्षेत्र वासियों में रामपाल, गणेश गोयल, मुकेश, सुनील,बजिंद्र राणा, प्रीतम, सोमपाल, बबली, सुरेंद्र बस्तली सहित अन्य का कहना है कि अस्पताल में प्रतिदिन करीब 200 से 300 मरीज ओपीडी के लिए पहुंचते है। सीएचसी में एक ही चिकित्सक ड्यूटी पर तैनात होने के कारण मरीजों को आधे से लेकर एक घंटा तक लाइन में खड़े होकर अपने नंबर का इंतजार करना पड़ता है। बाद में दवाइयों के लिए भी मरीजों की लंबी लाइनें लगती हैं।

फार्मासिस्ट के अभाव में मजबूरन स्टाफ नर्स व अन्य द्वारा मरीजों को दवाइयां वितरित करनी पड़ती है। इतना ही नहीं अस्पताल में आए दुर्घटनाग्रस्त लोगों को सीएचसी में मिलने वाली अल्ट्रासाउंड व एक्सरे सुविधाओं के अभाव में करनाल रेफर कर दिया जाता है। लोगों के लिए सीएचसी महज एक रैफरल सेंटर बनकर रह गई। अस्पताल में चिकित्सकों व अन्य सुविधाओं के अभाव में लोगों को महंगे निजी अस्पतालों का सहारा लेना पड़ रहा है। अस्पताल में विभाग के बौने इंतजामों के चलते मरीजों का इलाज कैसे संभव है इसका अंदाजा सहज ही लगाया जा सकता है। इतना ही नहीं अस्पताल में एक ही स्थाई चिकित्सक होने के कारण 24 घंटे की ड्यूटी देनी पड़ती है। जबकि अगले 24 घंटों के लिए डेपुटेशन पर भेजे गए चिकित्सक को तैनात किया जाता है। सीएचसी में स्थाई तौर पर महिला चिकित्सक नहीं होने के कारण प्रसूति के लिए पहुंची महिलाओं को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। मजबूरन स्टाफ नर्स को प्रसूति के लिए पहुंची महिलाओं को करनाल रैफर करना पड़ता है।

परेशानी

अस्पताल में प्रतिदिन आ रहे 200 से 300 मरीज, सुविधा नहीं मिलने से हो रही परेशानी

विधायक ने दिया है कमी

पूरी कराने का आश्वासन

नपा चेयरमैन सलिंद्र चौहान का कहना है कि डाॅक्टरों कमी के बारे में हलका नीलोखेड़ी विधायक भगवानदास कबीर पंथी को भी अवगत करवाया है। विधायक ने आश्वासन दिया कि जल्द ही डाॅक्टरों की कमी सीएचसी में दूर करवा दी जाएगी।

चिकित्सकों व अन्य स्टाफ की है कमी : डॉ. जौहरी

अस्पताल में चिकित्सकों व अन्य स्टाफ की भारी कमी है। डाॅक्टरों की कमी को लेकर उच्चाधिकारियों को भी अवगत करवाया है। सीएचसी में डेपुटेशन पर भेजे गए चिकित्सकों से ही काम चलाया जा रहा है। -डाॅ. राजेश जौहरी, एसएमओ, निसिंग।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Nising

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×