• Home
  • Haryana News
  • Panchkula
  • एमओयू साइन, ट्रांसपोर्ट कंसल्टेंट की सलाह से निगम करेगा काम
--Advertisement--

एमओयू साइन, ट्रांसपोर्ट कंसल्टेंट की सलाह से निगम करेगा काम

ट्रैफिक के स्मूथ फ्लो और सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिए पंचकूला नगर निगम ने रोड सेफ्टी एंड सस्टेनेबल...

Danik Bhaskar | Feb 03, 2018, 02:05 AM IST
ट्रैफिक के स्मूथ फ्लो और सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिए पंचकूला नगर निगम ने रोड सेफ्टी एंड सस्टेनेबल ट्रांसपोर्ट कंसल्टेंट नवदीप के.असीजा से मेमोरेंडम ऑफ अंडरस्टेंडिंग साइन किया है। नवदीप असीजा एमसी एरिया में रोड सेफ्टी के लिए ओवरआॅल इम्प्रूवमेंट के लिए निगम को कंसल्टेंसी देंगी। वह सड़कों में लोगों की सेफ्टी के लिए आवश्यक बदलाव, ऑर्गेनाइज्ड पार्किंग, स्ट्रीमलाइंड जंक्शंस, बढ़िया साइनेज और रोड फर्नीचर में सुधार के सुझाव देंगे।

शहर में कुल 22 ट्रैफिक लाइट्स व 15 राउंड अबाउट्स है जहां से रोजाना हजारों गाड़ियों का आना-जाना लगा रहता है। ऐसे में इन प्वाॅइंट्स पर स्लिप रोड नहीं होने की वजह से कई बार ट्रैफिक जाम जैसा माहौल होता है। ऐसे में गाड़ी चालक हादसे के शिकार भी हो जाते हैं। सेक्टर 18 के राऊंडअबाउट्स पर हुडा द्वारा स्लिप रोड बनाया गया है। इससे चंडीगढ़ की तरफ से हाऊसिंग बोर्ड लाइट प्वाॅइंट होते हुए पंचकूला की ओर आने वाली गाड़ियों का जाम नहीं लगता है। हर साल पंचकूला में ऐवरेज 250 से 300 के बीच सड़क हादसे होते हैं। इनमें 50 परसेंट रोड एक्सिडेंट ट्रैफिक लाइट प्वाॅइंट या फिर राउंडअबाउट के पास होते हैं। ऐसे में जरूरत के हिसाब से ट्रैफिक लाइट प्वॅाइंट और राउंडअबाउट्स पर स्लिप रोड बनने से इन हादसों को कंट्रोल किया जा सकता है।

निगम कमिश्नर राजेश जोगपाल का कहना है कि रोड सेफ्टी एंड सस्टेनेबल ट्रांसपोर्ट कंसल्टेंट नवदीप असीजा शहर की स्टडी कर बताएंगे कि कहां-कहां पंचकूला में स्लिप रोड की जरूरत है। एंट्री प्वाॅइंट्स को भी सुधारा जाएगा। पैदल चलने वाले लोगों की सुविधा के लिए फुटपाथ ठीक किए जाएंगे ताकि वे आसानी से चल फिर सकें। डिवाइडिंग रोड्स से मिलने वाले सेक्टरों के कट में स्पीड टेबल बनवाए जाएंगे ताकि तेज रफ्तार से वाहन डिवाइडिंग रोड्स पर न आए। स्पीड टेबल दूर से देखने पर इस तरह लगते हैं कि सड़क पर कोई बड़े साइज की चीज रखी हो। इससे वाहन चालक टकराने से बचने के लिए स्पीड कम कर देते हैं। विभिन्न चौराहों पर स्ट्रीट लाइट्स की जरूरत पर भी सुझाव दिए जाएंगे।

स्लिप रोड बनेंगी और एंट्री प्वॉइंट्स सुधारे जाएंगे

मेमोरेंडम ऑफ अंडरस्टेंडिंग साइन किया।

वुमन सेफ्टी के लिए भी होगा काम: नवदीप असीजा का कहना है कि वह स्मूथ ट्रैफिक फ्लो के साथ पंचकूला एमसी को वुमन सिक्योरिटी पर भी कंसल्टेंसी देगी। रोड साइड पर उगी कई फुट लंबी झाड़ियां कटवाई जाएगी। ऑटोरिक्शा की चेकिंग कर उनका डाटा तैयार किया जाएगा। शहर के टॉयलेट्स में लाइटिंग व दरवाजों की व्यवस्था चेक की जाएगी और इन्हें ठीक कराया जाएगा। शहर को महिलाओं के लिए सेफ व एसेसिबल बनाया जाएगा।

कोर्ट की तरफ से टर्म एंड कंडीशन तय: पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट में जज राजीव भल्ला ने 7 फरवरी, 2014 को कोर्ट केस सीडीसीपी नंबर 2695 और अन्य संबंधित मैटर्स की सुनवाई करते हुए सभी नगर निगमों और परिषदों को रोड्स एक्सीडेंट रोकने के लिए नवदीप के. असीजा की मदद लेकर रोड सेफ्टी के लिए जरूरी कदम उठाने को कहा था। इसके लिए कोर्ट की तरफ से टर्म एंड कंडीशन भी तय हैं। नवदीप के. असीजा रोड सेफ्टी के लिए चंडीगढ़ और मोहाली में भी नगर निगमों के साथ कंसल्टेंट के तौर पर काम कर चुके हैं। उनका दावा है कि रोड सेफ्टी के लिए दिए सुझावों पर अमल के बाद चंडीगढ़ में 40 परसेंट रोड एक्सिडेंट कम हुए हैं।