• Hindi News
  • Haryana News
  • Panchkula
  • ज्यादातर लोगों ने कहा बजट निराशाजनक, वादे नहीं काम करने चाहिए...
--Advertisement--

ज्यादातर लोगों ने कहा बजट निराशाजनक, वादे नहीं काम करने चाहिए...

वित्तमंत्री अरुण जेटली के बजट को ज्यादातर लोगांे ने निराशाजनक बताया। कुछ लोगों का कहना है कि गरीब लोगों के उत्थान...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 02:15 AM IST
वित्तमंत्री अरुण जेटली के बजट को ज्यादातर लोगांे ने निराशाजनक बताया। कुछ लोगों का कहना है कि गरीब लोगों के उत्थान पर सरकार ने फोक्स किया है। सभी को शिक्षा, रोजगार, घर उपलब्ध करवाने के लिए सरकार का प्रयास बजट में स्पष्ट दिख रहा है। सभी के घरों तक बिजली पहुंचाने के लिए प्रयास किया जा रहा है। उज्जवला योजना के तहत भले ही पांच करोड़ गरीब महिलाओं को घरेलू गैस कनेक्शन देने का लक्ष्य था। मगर इस योजना को गरीबों ने हाथों-हाथ लिया। इस वजह से अब सरकार ने आठ करोड़ गरीब महिलाओं को गैस कनेक्शन देने का लक्ष्य रखा है। गरीबों के घर भी बिजली से रोशन हों, इसके लिए मोदी सरकार ने सौभाग्य योजना शुरू की है।

भावनाओं से खिलवाड़

भाजपा ने 2014 के आम चुनावों में हर साल एक 1 करोड़ लोगों को रोजगार देने का वादा किया था, उसे तो पूरा किया नहीं। अब जेतली 70 लाख को रोजगार देने की बात कर लोगों की भावनाओं से खिलबाड़ ही कर रहे हैं। -अजय गौतम, आप पार्टी

राेजगार देना चाहिए

मोदी सरकार में वित्त मंत्रालय का देशवासियों के नाम पेश बजट देशाहीन और बदतर साबित हुआ है। केंद्र की मोदी सरकार ने दो करोड़ नौकरी देने का वायदा किया था। 4 साल में 6 लाख भी नौकरी नहीं दे पाई। -सौरव गर्ग, अध्यक्ष यूथ कांग्रेस

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..