--Advertisement--

युवराज बोले: फिलहाल IPL पर फोकस, संन्यास की वर्ल्ड कप के बाद सोचूंगा

इंटरनेशनल क्रिकेट में वापसी के लिए सिक्सर किंग युवराज सिंह अब तैयार हैं।

Danik Bhaskar | Mar 13, 2018, 05:29 AM IST

सोनीपत. इंटरनेशनल क्रिकेट में वापसी के लिए सिक्सर किंग युवराज सिंह अब तैयार हैं। टीम इंडिया को 2011 में वर्ल्ड कप जिताने में अहम भूमिका निभाने वाले ऑलराउंडर युवराज सिंह की वापसी में सबसे बड़ी रुकावट बने यो-यो बीप टेस्ट को दो ढाई माह पहले क्लियर कर लिया था। इसके साथ उन्होंने घोषणा कर दी कि अगले महीने शुरू होने जा रहा आईपीएल उनके करियर का टर्निंग प्वाइंट होगा।
प्रतियोगिता के जरिए वे साल 2019 में होने वाले विश्व कप के लिए अपना दावा ठोकेंगे। बता दें, युवराज सोनीपत में एक क्रिकेट एकेडमी में युवराज सिंह क्रिकेट एक्सीलेंस में खिलाड़ियों से रूबरू होने पहुंचे। उनसे यो-यो टेस्ट पास होने के बारे में पूछा तो युवराज ने जवाब दिया- हां, अब मैंने टेस्ट पास कर लिया है। अब पूरा ध्यान आईपीएल पर है। जहां तक रिटायरमेंट की बात है वह उसके बारे में 2019 विश्व कप के बाद सोचेंगे। युवी ने पार की बड़ी बाधा, यो यो टेस्ट..


- बैंगलुरू की नेशनल क्रिकेट स्टेडियम में हुए यो यो टेस्ट में युवराज सिंह का स्कोर 16.3 रहा। यो यो टेस्ट पास करने का कट ऑफ स्कोर 16.1 है। मतलब युवराज सिंह ने .2 अंक से इस टेस्ट को पास कर लिया।

- युवराज सिंह के यो यो टेस्ट पास करते ही वो अब टीम इंडिया में वापसी के दावेदार बन गए हैं। टीम इंडिया में वापसी के लिए यो यो टेस्ट पास करना जरूरी है, जिसमें युवराज सिंह लगातार 3 बार फेल हो गए थे।


कैंसर के मरीजों के लिए करेंगे काम
युवराज ने कहा कि वह कैंसर मरीजों और कैंसर को हराने वाले लोगों के लिए काम करना चाहते हैं। युवराज सिंह का संगठन यूवी कैन कैंसर के क्षेत्र में ही काम कर रहा है। बैंगलुरु स्थित नेशनल क्रिकेट अकादमी में हुए यो-यो फिटनेस टेस्ट में युवराज के साथ सुरेश रैना भी फेल हो गए थे, लेकिन बाद में उन्होंने क्लियर किया था।

जानिए...क्या होता है यो-यो टेस्ट
- यो-यो बीप टैस्ट' किसी खिलाड़ी के दमखम का परीक्षण करने के लिहाज से सबसे अहम माना जाता है. इस टेस्ट में कई 'कोन्स' की मदद से 20 मीटर की दूरी पर दो पंक्तियां बनाई जाती हैं। खिलाड़ी रेखा के पीछे अपना पांव रखकर शुरुआत करता है और निर्देश मिलते ही दौड़ना शुरू करता है, उसे 20 मीटर की दूरी पर बनी दो पंक्तियों के बीच लगातार दौड़ना होता है और जब बीप बजती है तो मुड़ना होता है।

- हर एक मिनट या तय किए गए समय में खिलाड़ी को अपने दौड़ने की गति को तेज करना होता है। अगर वह समय पर रेखा तक नहीं पहुंचे तो दो और 'बीप' के बाद उसे तेजी पकड़नी होती है। अगर इसके बाद भी खिलाड़ी दो छोरों पर मानकों के मुताबिक तेजी हासिल नहीं कर पाता तो उसका परीक्षण रोक दिया जाता है।

- ये पूरी प्रक्रिया साॅफ्टवेयर पर आधारित होती है, जिसमें नतीजे रिकॉर्ड किए जाते हैं। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी के लिए सिक्सर किंग युवराज सिंह अब तैयार हैं। टीम इंडिया को 2011 में वर्ल्ड कप जिताने में अहम भूमिका निभाने वाले ऑलराउंडर युवराज सिंह की वापसी में सबसे बड़ी रुकावट बने यो-यो बीप टेस्ट को दो ढाई माह पहले क्लियर कर लिया था। इसके साथ उन्होंने घोषणा कर दी कि अगले महीने शुरू होने जा रहा आईपीएल उनके करियर का टर्निंग प्वाइंट होगा।


- प्रतियोगिता के जरिए वे साल 2019 में होने वाले विश्व कप के लिए अपना दावा ठोकेंगे। यहां एक क्रिकेट एकेडमी में युवराज सिंह क्रिकेट एक्सीलेंस में खिलाड़ियों से रूबरू होने पहुंचे। उनसे यो-यो टेस्ट पास होने के बारे में पूछा तो युवराज ने जवाब दिया- हां, अब मैंने टेस्ट पास कर लिया है। अब पूरा ध्यान आईपीएल पर है। जहां तक संन्यास की बात है वह उसके बारे में 2019 विश्व कप के बाद सोचेंगे।