--Advertisement--

कॉन्ट्रैक्ट पर भर्ती होने हैं 10 ड्राइवर, आगे पक्के होने की उम्मीद में हर पद के लिए 120 उम्मीदवार लाइन में

ड्राइवर के 10 पद। वेतन सिर्फ 8100 रुपए। वह भी एक साल के कॉन्ट्रैक्ट पर।

Danik Bhaskar | Jan 15, 2018, 07:33 AM IST

चंडीगढ़/पानीपत. ड्राइवर के 10 पद। वेतन सिर्फ 8100 रुपए। वह भी एक साल के कॉन्ट्रैक्ट पर। कभी भी बर्खास्त किए जाने की शर्त पर भर्ती, लेकिन इसके लिए भी बेरोजगारों की कतार है। एक पद के लिए 120 उम्मीदवारों में कॉम्पीटिशन। यानी दस पदों के लिए 1200 युवाओं ने आवेदन किया है।


जिस दिन 8 दिसंबर को आवेदन जमा होने थे, उसके साथ ही हरियाणा स्टाफ सिलेक्शन कमीशन ने इंटरव्यू भी रखा था लेकिन पांच-सात युवाओं के ही इंटरव्यू हो पाए। भीड़ ज्यादा हो गई और इंटरव्यू की प्रक्रिया को खत्म कर सिर्फ आवेदन ही जमा किए गए। कमीशन ने अब इंटरव्यू के लिए 18 जनवरी की तारीख तय की है। कांट्रेक्ट बेस पर मात्र 8100 रुपए की नौकरी के लिए भी हरियाणा का युवा क्यों भाग दौड़ कर रहा है, यह जब जाना गया तो सामने आया कि उन्हें यह उम्मीद है कि सरकार अपने आखिरी समय में या अगली सरकार उन्हें पक्का कर सकती है। इसलिए वह अपने घरों से दूर दूसरे शहर में भी 8100 रुपए पर काम करने को तैयार हैं।

इन उदाहरणों से समझिए, क्यों बेरोजगारों को बंध रही उम्मीद

भजनलाल सरकार ने 1993 में नियमतिकरण की पॉलिसी बनाई थी। जिसमें पांच साल से काम कर रहे कच्चे कर्मचारियों को पक्का किए जाने का प्रावधान किया गया। अनेक कर्मचारियों को फायदा मिला।

हुड्‌डा सरकार ने 2011 में फिर अपने हिसाब से नियमतिकरण की पॉलिसी बनाई। जिसमें दस साल से काम कर रहे कच्चे कर्मचारियों को पक्का किए जाने का प्रावधान किया।

खट्‌टर सरकार ने 2014 की पॉलिसी के तहत कर्मचारियों को पक्का किए जाने का प्रस्ताव रखा तो वह कोर्ट में चैलेंज हो गई, इसलिए 2011 की पॉलिसी अपना ली। कुछ दिन पहले ही अनुबंध पर लगे एनएचएम के कर्मचारियों के लिए सेवा नियम बना दिए। पांच साल की सर्विस होने पर उन्हें सभी भत्ते मिलेंगे।

-यह कहते हैं आवेदनकर्ता...

भिवानी के तोशाम के रहने वाले संदीप 10वीं पास है। कहते हैं जब फॉर्म भरा था, उसी वक्त कुछ सवाल किए थे। जिनमें मुख्यमंत्री, परिवहन मंत्री आदि के नाम पूछा गया था। आगे-पीछे पक्के हो सकते हैं। अभी गाडी ही चला रहे हैं।
पंचकूला के सुनील का कहना है कि 12वीं पास हूं। उम्मीद यही है कि सरकार आगे पक्का भी कर सकती है। बाकी चलो एक साल तो काम करना ही है।
ये हैं बिहार के विजय कुमार। 15 वर्षों से हरियाणा में रह रहे हैं। कहते हैं अभी पंचकूला में ही गाडी चला रहे हैं। इसलिए आवेदन किया कि कुछ समय तो सरकारी नौकरी हो जाएगी और क्या पता सरकार आगे नियमित कर दे।

10 में से 5 पद आरक्षित कोटे में
ड्राइवरों की कॉन्ट्रैक्ट बेस पर नौकरी के लिए दस पदों में पांच जनरल के लिए हैं। जबकि बाकी अन्य आरक्षित वर्ग के लिए हैं। एससी के 2, बीसीए, बीसीबी और ईबीपीजी के लिए एक-एक पद आरक्षित है।