--Advertisement--

25 विधायक 300 रुपए महीने में चला रहे ट्यूबवेल, हुड्‌डा-चौटाला-बंसीलाल के नाम भी कनेक्शन

हरियाणा के बिजली वितरण निगम करीब 27 हजार करोड़ रुपए के घाटे में चल रहे हैं।

Danik Bhaskar | Dec 27, 2017, 05:59 AM IST

पानीपत. हरियाणा के बिजली वितरण निगम करीब 27 हजार करोड़ रुपए के घाटे में चल रहे हैं। प्रदेश सरकार इसकी रिकवरी और बिल वसूलने की प्रॉपर व्यवस्था बनाने की लगातार कोशिश कर रही है। इसलिए सीएम मनोहर लाल खट्‌टर गांवों के लिए ‘म्हारा गाम जगमग गाम’ योजना लाए। वहीं बिजली चोरी पकड़ने के लिए कर्मचारियों को 10 प्रतिशत इंसेंटिव तक देने की योजना शुरू की। मगर, एग्रीकल्चर कनेक्शन के नाम पर उनके ही मातहत यानी मंत्री और विधायक सब्सिडी वाली बिजली इस्तेमाल कर रहे हैं। प्रदेश में राज्य मंत्री नायब सैनी समेत करीब 25 विधायक इस सुविधा का लाभ ले रहे हैं। इसके आलवा तमाम आला अफसर और संभ्रांत कास्तकार भी सब्सिडी वाले बिजली कनेक्शन का लाभ ले रहे हैं। पुराने एग्रीकल्चर कनेक्शन में मात्र 250 से 300 रुपए फिक्स बिल आता है।


नए कनेक्शन पर यह मात्र 10 पैसे प्रति यूनिट लिया जाता है। यदि 10 से 15 हॉर्स पावर की मोटर लगाता है और औसतन 7 घंटे उसे चलाता है तो हर कनेक्शन पर 2349 यूनिट बिजली हर माह खर्च होती है। यह लाभ पूर्व विधायक और पूर्व सीएम के परिवार वाले भी ले रहे हैं। पूर्व सीएम ओम प्रकाश चौटाला और विपक्ष के नेता अभय चौटाला के नाम पर एक-एक एग्रीकल्चर कनेक्शन है। वहीं, भिवानी से पूर्व सीएम बंसीलाल व उनके परिवार के सदस्यों के नाम से 6 एग्रीकल्चर कनेक्शन हैं। बड़ा सवाल यह है कि सरकार जब राशन बांटने में कैटेगिरी सिस्टम लागू कर सकती है तो एग्रीकल्चर कनेक्शन देने में कोई कैटेगिरी क्यों नहीं बना रही। राज्य मंत्री नायब सैनी के पिता के नाम से जो कनेक्शन है उसमें तो तीन साल से बिजली का बिल भी नहीं भरा गया है। वहीं, कई फॉर्म हाउस में भी एग्रीकल्चर कनेक्शन का इस्तेमाल हो रहा है। भाजपा, कांग्रेस और इनेलो सभी दल के नेता खेतों में सब्सिडी वाली बिजली का लाभ ले रहे हैं।

यह है एग्रीकल्चर कनेक्शन की दर

- प्रदेश में जो पुराने एग्रीकल्चर कनेक्शन हैं उनमें 5 से 7.5 हॉर्स पॉवर तक की मोटर पर हर माह 170 रुपए बिल आता है।
- जबकि 10 से 15 हॉर्स पॉवर की मोटर का बिल 300 रुपए प्रतिमाह तक आता है।
- अब नए एग्रीकल्चर कनेक्शन लेने पर बिजली का बिल 10 पैसे प्रति यूनिट के हिसाब से दिया जा रहा है।

हुड्‌डा बोले

एग्रीकल्चर बिजली कनेक्शन का दुरुपयोग करने से रोकने के लिए सरकार को अलग से नीति बनानी चाहिए। इसकी कैटेगरी अलग से होनी चाहिए कि कौन किसान इसका फायदा ले सकता है।
- भूपेंद्र हुड्डा, पूर्व सीएम, हरियाणा।

एग्रीकल्चर कनेक्शन का होगा ऑडिट: दास

बड़े किसानों के एग्रीकल्चर कनेक्शन का ऑडिट कराया जाएगा। हम ऐसी पॉलिसी लाएंगे, जिससे बिजली का दुरुपयोग रोका जा सके, बड़े किसान भी उतनी ही बिजली ले सकें जितनी जरूरत है।
-पीके दास, एसीएस, ऊर्जा विभाग

सरकार नई पॉलिसी पर कर रही विचार: जैन

सरकार सब्सिडी वाले कनेक्शन का डेटा एकत्र कर जांच कराएगी। ऐसी पॉलिसी बनेगी जिसमें 10 लाख से ऊपर आय वाले किसानों को सब्सिडी वाली बिजली नहीं दी जाएगी।
- राजीव जैन, चेयरमैन, मीडिया विभाग

रोहतक: वित्तमंत्री कैप्टन अभिमन्यु के परिवार के सदस्यों के नाम 7 कनेक्शन

 

सुनारियां में वित्तमंत्री के भाई के नाम से 10 किलोवाट का एग्रीकल्चर कनेक्शन, माड़ौदी में पिता मित्रसेन के नाम से 15.0 बीएचपी व पिता एमएस सिंधू के नाम से 15.0 बीएचपी का एक, मेसर्स सिंधू फार्म हाउस में 10 बीएचपी का एग्रीकल्चर कनेक्शन, भाई वीरसेन के नाम से दो, मां परमेश्वरी देवी के नाम से दो 10 बीएचपी के एग्रीकल्चर कनेक्शन हैं।

रोहतक: पूर्व सीएम हुड्डा व पारिवारिक सदस्यों के नाम से तीन कनेक्शन

 

पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा के नाम पर एग्रीकल्चर पंपिग सेट के लिए एक 4.6 किलोवाट का कनेक्शन है। सांघी गांव में पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह के चचेरे भाई कुलदीप सिंह के नाम से एग्रीकल्चर पंपिंग सेट के नाम पर 12.5 व 7.5 हार्स पावर के दो कनेक्शन स्वीकृत हैं।  

सिरसा: पूर्व सीएम ओपी चौटाला, अभय के नाम एक-एक एग्रीकल्चर कनेक्शन

 

डबवाली के गांव चौटाला और तेजाखेड़ा के बीच चौटाला परिवार के फार्म हाउस में पूर्व सीएम अोमप्रकाश चौटाला के नाम से एक 6 और एक 15 किलोवाट के कनेक्शन हैं। इसके अलावा पूर्व सीएम अोमप्रकाश चौटाला और उनके बेटे अभय सिंह चौटाला के नाम एक-एक एग्रीकल्चर कनेक्शन है, जिसका लोड क्रमश: 7.5 और 10.5 किलोवाट तक है।

अम्बाला: मंत्री नायब सैनी के पिता के नाम 1.24 लाख का बिल बकाया

 

नारायणगढ़ के विधायक और राज्यमंत्री नायब सैनी के पिता तेलू राम के नाम से ट्यूबवैल का कनेक्शन है। जिसका लोड 10 बीएचपी है। नंबर बीटी 030274ए है। पिछले करीब 3 साल से बिल नहीं भरा है। 1,24,098 रुपए बकाया हैं।

भिवानी: बंसीलाल व परिवार के सदस्यों के नाम 12 ट्यूबवेल कनेक्शन

 

पूर्व मुख्यमंत्री चौधरी बंसीलाल के पैतृक गांव गोलागढ़ में उनके व उनके परिवार के सदस्यों के नाम 12 बिजली ट्यूबवेल कनेक्शन हैं। जिनमें से एक कनेक्शन चौ. बंसीलाल के पिता मोहर सिंह व खुद बंसीलाल के नाम से है।  दस ट्यूबवेल कनेक्शन परिवार के अन्य सदस्यों के नाम हैं।

फतेहाबाद:  विधायक दौलतपुरिया के पारिवारिक सदस्यों के नाम 10 कनेक्शन

 

फतेहबाद हलके में विधायक बलवान दौलतपुरिया का गांव दौलतपुर में फार्म हाउस है। वहीं खेती वाली जमीन है। निगम से मिली जानकारी के अनुसार करीब 10 ट्यूबवेल कनेक्शन हैं। जोकि विभिन्न सदस्यों के नाम से है। सभी का बिल नियमिति भरा जाता है। करीब 100 एकड़ जमीन है। पूर्व विधायक प्रहलाद सिंह के पास 18 एकड़ जमीन है जोकि उनके ही नाम है। तीन ट्यूबवेल कनेक्शन हैं।

टोहाना: भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बराला के पारिवारिक सदस्यों के नाम मीटर 

 

टोहाना विधायक सुभाष बराला के फार्म हाउस व ट्यूवबेलों का बिल भी नियमित भरा जाता है। यह कनेक्शन भी परिवार के सदस्यों के नाम हैं।  करीब 20 एकड़ जमीन है। पूर्व विधायक परमवीर सिंह की टोहाना में 21 एकड़ जमीन है। ट्यबवेल कनेक्शन 3-4 हैं।

 

महम: दांगी के बेटे के नाम मीटर

मदीना गांव में विधायक कांग्रेस विधायक आनंद सिंह दांगी के पुत्र बलराम सिंह दांगी के नाम से 5 बीएचपी का एक एग्रीकल्चर कनेक्शन है। 

 

हिसार: विधायक रणबीर गंगवा के नाम दो गांवों में 3 कनेक्शन

नलवा हलका विधायक रणबीर गंगवा के नाम तीन एग्रीकल्चर कनेक्शन हैं। दो कनेक्शन गांव कैमरी में और एक गांव पातन की खेती में लिया गया है।