--Advertisement--

3 बड़े रण की तैयारी, दांव पर 3136 मेडल, यहां भिड़ रहे 7500 खिलाड़ी

खेल यानी उत्सव, उत्साह, आनंद और उम्मीदों का खजाना। हरियाणा के इस खजाने में और बेशकीमती धातुएं जुड़ने वाली हैं।

Danik Bhaskar | Jan 01, 2018, 07:13 AM IST

पानीपत। खेल यानी उत्सव, उत्साह, आनंद और उम्मीदों का खजाना। हरियाणा के इस खजाने में और बेशकीमती धातुएं जुड़ने वाली हैं। क्योंकि दुनिया के तीन बड़े आयोजन नए साल-2018 में होने हैं। अप्रैल में कॉमनवेल्थ, अगस्त में एशियन गेम्स और नवंबर-दिसंबर में हॉकी वर्ल्ड कप। लिहाजा यह साल भारत के लिए खेलों का साल है। कॉमनवेल्थ में 1500 और एशियन गेम्स में करीब 1636 मेडल दांव पर होंगे। देश की नजर लगभग 250 मेडल पर है। इनमें से 150 से ज्यादा पर हरियाणा दावेदारी ठोक रहा है। भले ही तीनों बड़े आयोजन विदेशों में होंगे, पर देश की अधिकतर तैयारियां राज्य के सोनीपत, हिसार, भिवानी, रोहतक और कुरुक्षेत्र के 5 साई सेंटरों में होंगी। कुश्ती, कबड्‌डी, हॉकी, बॉक्सिंग, वेटलिफ्टिंग, बॉस्केटबाल, एथलेटिक्स, आर्चरी और जिम्नास्ट के लिए यहां करीब 7500 नेशनल-इंटरनेशनल लेवल के खिलाड़ी 7-8 घंटे रोज अभ्यास कर रहे हैं। इनमें 2000 से ज्यादा खिलाड़ी बाहरी राज्यों के हैं। राज्य में 600 से ज्यादा अखाड़े, 1200 से ज्यादा बॉक्सिंग, हॉकी, कबड़्डी, एथलेटिक्स आर्चरी सेंटर में खिलाड़ी पसीना बहा रहे हैं।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें पूरी खबर