पानीपत

--Advertisement--

नौकरियों में अनुसूचित जाति व पिछड़ा वर्ग का बैकलॉग पूरा करने को सरकार जल्द निकालेगी भर्तियां: सीएम

सरकारी नौकरियों में अनुसूचित जाति और पिछड़ा वर्ग का बैकलॉग पूरा करने के लिए सरकार जल्दी ही नई भर्तियां करेगी।

Danik Bhaskar

Jan 16, 2018, 04:58 AM IST

चंडीगढ़/ पानीपत। सरकारी नौकरियों में अनुसूचित जाति और पिछड़ा वर्ग का बैकलॉग पूरा करने के लिए सरकार जल्दी ही नई भर्तियां करेगी। खाली पदों का पता लगाकर उनके लिए विज्ञापन जारी करने के मुख्य सचिव को आदेश दे दिए गए हैं। जबकि प्रमोशन में रिजर्वेशन के मुद्दे को लेकर अनिल कुमार कमेटी अपनी रिपोर्ट जल्द ही सरकार को सौंपेगी। उसका अध्ययन करने के बाद कोर्ट में जवाब पेश किया जाएगा। अनुसूचित जाति आयोग का गठन भी जल्दी ही कर दिया जाएगा। एससी मद के पूरे बजट का उपयोग करने के उद्देश्य से विभागों को नई योजनाएं बनाने के आदेश भी दिए गए हैं।
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सोमवार को उनके निवास पर मिलने आए अनुसूचित जाति और पिछड़ा वर्ग के प्रतिनिधियों को यह भरोसा दिलाया। विभिन्न समाजों के करीब 250 लोगों से सीएम ने गुरु रविदास जयंती मनाए जाने को लेकर भी चर्चा की। उन्होंने बताया कि सरकार इस बार कैथल और भिवानी में 28 जनवरी एवं 4 फरवरी को रविदास जयंती मना रही है। इसमें ज्यादा से ज्यादा लोगों को शामिल होना चाहिए।


सीएम ने इन प्रतिनिधियों को भरोसा दिलाया कि वे सभी वर्गों को साथ लेकर काम कर रहे हैं। सबको बराबरी का दर्जा मिले, इसके लिए रोजगार एवं स्थानांतरण नीति में पारदर्शिता लाई गई है। उन्होंने भरोसा दिलाया कि बीपीएल कार्ड के लिए जल्द नया सर्वे शुरू किया जाएगा। इस अवसर पर परिवहन मंत्री कृष्ण लाल पंवार, जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री डॉ. बनवारी लाल प्रदेश भाजपा महामंत्री संजय भाटिया, मीडिया प्रमुख राजीव जैन, मुख्यमंत्री के ओएसडी भूपेश्वर दयाल, राजनीतिक सचिव दीपक मंगला भी मौजूद रहे।

वर्ष 2014 की स्कॉलरशिप
नहीं मिलने की होगी जांच वर्ष 2014 से अब तक कुछ बच्चों को अभी तक स्कॉलरशिप नहीं मिलने की शिकायत पर सीएम ने भरोसा दिलाया कि इसकी जांच कराई जाएगी। लेकिन जो बच्चे वर्ष 2014 के बाद ग्रेजुएशन पूरी कर चुके हैं, वे अगर इसका प्रमाण देते हैं तो उन्हें स्कॉलरशिप की राशि जारी कर दी जाएगी। उन्होंने कहा कि अनुसूचित जाति के बच्चों को प्रतिस्पर्धा के इस दौर में आगे लाने के लिए उन्हें स्किल डेवलपमेंट का प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। इसमें दाखिले के समय डाटा के मुताबिक स्कॉलरशिप और ट्यूशन फीस समय पर मुहैया कराए जाने की व्यवस्था की जा रही है। ग्रामीण विद्यार्थियों का होम वर्क पूरा कराने के लिए अलग से केंद्र बनाए जाने पर भी विचार किया जा रहा है।

Click to listen..