Hindi News »Haryana »Panipat» Earning Millions Of Rupees From Leaf Cabbage Farming

पत्ता गोभी की खेती, केवल तीन महीने में सवा लाख की आमदनी

किसानों में सब्जियों के प्रति रूझान बढ़ाने के लिए सब्जी उत्कृष्टता केंद्र(सीईवी) देशी व विदेशी फसलों का डेमोस्ट्रेशन करत

विवेक राणा | Last Modified - Dec 14, 2017, 07:53 AM IST

पत्ता गोभी की खेती, केवल तीन महीने में सवा लाख की आमदनी

घरौंडा.किसानों में सब्जियों के प्रति रूझान बढ़ाने के लिए सब्जी उत्कृष्टता केंद्र(सीईवी) देशी व विदेशी फसलों का डेमोस्ट्रेशन करता रहता है। इन फसलों के सार्थक परिणाम के बाद ही किसानों को फसल लगाने के लिए रिकमेंड किया जाता है। सीईवी के स्पेशलिस्टों ने इन दिनों पॉक-चोय यानी पत्तागोभी की फसल का ट्राॅयल लगाया हुआ है। विशेषज्ञों के अनुसार मात्र तीन महीने की फसल से किसान लाखों रुपए की आमदनी ले सकते है।


- फसल को लगाने का सही वक्त अक्टॅबर का पहला सप्ताह में होता है। इसकी पौध को हाईटेक ग्रीन हाउस या फिर ऑपन फील्ड में भी तैयार किया जा सकता है। 4 हजार स्क्वायर फीट के एरिया में लगभग 24 हजार पौधे लगाए जा सकते हैं।

- इसके लिए एक एकड़ में लगभग 40 बैड तैयार किए जाते हैं। पौधरोपण के दौरान लाइन टू लाइन की दूरी 30 सेंमी तथा प्लांट से प्लांट की दूरी 40 सेंमी रखनी होती है।

- फसल 50 दिन तक तैयार हो जाती है। जिस पर करीबन 50 हजार रुपए तक का खर्च आता है, तीन माह में किसान सवा लाख रुपए से ज्यादा की फसल बेच सकता है।

विटामिन ए व सी का है भंडार

सीइवी के विशेषज्ञों के अनुसार पॉक-चोय एक बेहतरीन फसल है। जिसमें विटामिन ए व सी की प्रचुर मात्रा है। जो खून की कमी को तो दूर करते ही है, साथ ही कैंसर के फ्री रेडिकल्स को शरीर से बाहर निकालते है। इसके साथ ही किसान पॉक चोय की फसल के साथ-साथ एग्जोटिक वैजिटेबल जैसे, ब्रोकली, लेटुश, गांठ गोभी, बीट रूट, स्क्वायश, रेड कैबिज अन्य पत्तेदार सब्जियां लगाएं।

कीटनाशक का प्रयोग न करें

- सीइवी के वेजिटेबल एक्सपर्ट कृष्ण कुमार सोलंकी बताते है कि किसान अपनी फसलों पर पेस्टीसाइड दवाईयों का अंधाधुंध इस्तेमाल कर करते है।

- यदि किसान अच्छा मुनाफा चाहते है तो वे सब्जियों के उत्पादन में कम से कम कीटनाशक दवाइयों का प्रयोग करें।

- बायो पेस्टीसाइड को अपनाएं और उच्च गुणवत्ता की फसलों की पैदावार करें। साथ ही फसल की ग्रेडिंग के अनुसार पैकिंग करें। जिससे उनकी गुणवत्ता ग्राहकों को अपनी ओर आकर्षित करेंगी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Panipat

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×