--Advertisement--

17 के बजाय Rs.18 किराया लिया तो कंडक्टर पर लगाया Rs.1000 का जुर्माना

बुधवार को जीएम के पास पहुंचा तो जीएम बोले कि ऐसे मांगने से एक रुपया रोडवेज वापस नहीं करेगी।

Dainik Bhaskar

Jan 25, 2018, 07:30 AM IST
Fine imposed on bus conductor

डबवाली (सिरसा). बस कंडक्टर ने यात्री से एक रुपया ज्यादा किराया लिया तो कंडक्टर से 1000 रुपए जुर्माना वसूला गया। लेकिन यात्री अपना रुपया ब्याज समेत वापस लेने के लिए ढाई साल से रोडवेज विभाग के अधिकारियों के चक्कर लगा रहा है। बुधवार को जीएम के पास पहुंचा तो जीएम बोले कि ऐसे मांगने से एक रुपया रोडवेज वापस नहीं करेगी। ऐसा होगा तो मैं रोडवेज को ताला लगा दूंगा। मामला सिरसा का है। आरोप है कि जीएम ने पीड़ित यात्री को मारपीट की धमकी दी और ऑफिस से निकाल दिया। उसने बस स्टैंड में ही स्थित पुलिस चौकी में शिकायत देकर जीएम पर कार्रवाई की मांग की। पुलिसकर्मियों ने पहले शिकायत लेने से मना कर दिया, लेकिन एसपी का नंबर डायर किया तो शिकायत रिसीव कर ली।


एसपी का नंबर डायल किया तो ली शिकायत


बस स्टैंड में ऊपर जीएम ऑफिस है जबकि नीचे आदर्श पुलिस चौकी होने से पीड़ित श्रवण ने हाथ से शिकायत लिखी और चौकी में दी लेकिन पुलिसकर्मियों ने जीएम के खिलाफ शिकायत लेने से मना कर दिया। इससे वह चौकी के बाहर आकर बस में बैठ गया लेकिन रोडवेज बस में रास्ते में फिर कोई वारदात न हो जाए इस डर से दोबारा चौकी पहुंचा और एसपी का मोबाइल नंबर 88140 11600 दिखाते हुए कहा कि इस पर काॅल करूं या मेरी शिकायत रिसीव कर लोगे। इस पर पुलिसकर्मी से शिकायत पकड़ ली और उसकी प्रति पर रिसिविंग भी दे दी।


रुपया लेकर रहूंगा, चाहे कोर्ट जाना पड़े : श्रवण


किराया में लिया गया अतिरिक्त एक रुपया का नियमानुसार सरकारी खजाने से भुगतान किया जाए ताकि मैं समाज में बता सकूं कि गलत लिया गया एक-एक पैसा भ्रष्टाचारियों व दोषियों से शिकायतकर्ता को बाइज्जत मिलता है। आज भी डबवाली से सगरिया रूट ही नहीं सभी रूटों पर यात्री से मनमर्जी का किराया लिया जाता है, लेकिन अधिकारी खुद भ्रष्टाचारियों की पैरवी कर रहे हैं। मैं अपना रुपया ब्याज और हर्जाने सहित लेकर रहूंगा। भले ही कोर्ट की शरण लेनी पड़े।


पीड़ित यात्री का अारोप- निजी सुनवाई पर बुलाकर जीएम ने मारपीट की धमकी तक दी

गांव आसाखेड़ा के श्रवण कुमार ने बताया, 'मैंने अप्रैल 2015 में को रोडवेज बस में आसाखेड़ा से डबवाली तक यात्रा की। कंडक्टर मनोज कुमार ने तय किराए 17 के बजाय 18 रुपए लिए। मैंने विरोध किया तो बदतमीजी की और नीचे उतारने की धमकी दी। शिकायत करने पर जांच अधिकारी ने कंडक्टर को दोषी पाया। तत्कालीन जीएम सुरेश कस्वां ने एक हजार रुपए जुर्माना वसूला। लेकिन मुझसे लिए गए अतिरिक्त एक रुपए का भुगतान आज तक नहीं किया गया। ढाई साल से रोडवेज अधिकारियों के चक्कर लगा चुका हूं। सीएम विंडो पर पर शिकायत भेजी। 16 जनवरी को भी सिरसा जीएम को शिकायत दी थी। बुधवार को जीएम विजय सिंह मलिक ने फोन कर निजी सुनवाई के लिए बुलाया। मैं 4 बजे उनके दफ्तर पहुंचा। जीएम बोले कि कंडक्टर ने एक रुपया ज्यादा ले लिया तो कौनसी बड़ी बात हो गई। जुर्माना तो वसूल लिया और क्या उसे फांसी तोड़ दूं या तू तोड़ दे। मैंने कहा कि यह एक रुपए की नहीं, स्वाभिमान की बात है। जीएम बोले कि एसबीआई का लोन दिलवा दे तो मैंने कहा कि लोन दिलवा दूंगा आप पहले डिफाॅल्टर नहीं होने चाहिए। इस पर उसने चिढ़ते हुए कहा कि मैं रोडवेज का जीएम हूं, तेरे जैसे नंग घणे देखें हैं और तूं मन्नै लोन दिवावेगा कै। जीएम के हाथ पर चोट होने पर मैंने पूछा कि क्या हो गया तो जवाब मिला कि दो को तो पीटकर आया हूं, इसलिए तेरे को बुलाया है। मैंने सोचा कोई बड़ा आदमी होगा तो दो हाथ करूंगा। इसके बाद क्लर्क से कहा कि इसकी दरख्वास्त फाइल कर दे। ये कुछ नहीं बिगाड़ सकता। देखता हूं कि ये कितना बड़ा है। जिस दिन ऐसे मांगने से रोडवेज एक रुपया वापस कर देगा। उस दिन तो मैं रोडवेज को ताला लगा दूंगा। इसके बाद मुझे ऑफिस से बाहर निकाल दिया गया।'

X
Fine imposed on bus conductor
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..