--Advertisement--

गैंगस्टर का था बिजनेस पार्टनर था ये शख्स, मौत से पहले कर रहा था ऐसी मिन्नतें

गैंगस्टर सुरेंद्र ग्योंग के एनकाउंटर के बाद पुलिस उसके गैंग को दहशत फैलाने से रोकने में नाकाम रही।

Danik Bhaskar | Jan 01, 2018, 06:31 AM IST
जयदेव को सुरेंद्र के भाई और उसके दोस्तों ने गोलियों से भून दिया था। जयदेव को सुरेंद्र के भाई और उसके दोस्तों ने गोलियों से भून दिया था।

पानीपत. गैंगस्टर सुरेंद्र ग्योंग के एनकाउंटर के बाद पुलिस उसके गैंग को दहशत फैलाने से रोकने में नाकाम रही। एनकाउंटर के करीब आठ महीने बाद ही ग्योंग के भाई ने सुरेंद्र के खास दोस्त जयदेव शर्मा की हत्या कर सनसनी फैला दी। पुलिस को पता था कि जयदेव उनके निशाने पर है। लोगों में गैंग का डर इस कदर हावी हो गया कि रविवार को पोस्टमार्टम के दौरान भी लोग डरते दिखे। मीडियाकर्मियों ने परिवारवालों के साथ लोगों की फोटो खींची तो उन्होंने गैंग के डर से फोटो डिलीट करा दी। लोग अपने नाम भी बताने से कतराते रहे। बॉडी से मिली 8 गोलियां...

- पुलिस ने पहले शव को एक्सरे रूम ले जाकर तीन एक्सरे कराए। इसमें गोली लगने से खोपड़ी में फेक्चर मिला।

- डॉ. सुरेंद्र और डॉ. रचना के मेडिकल बोर्ड ने पोस्टमार्टम किया। पोस्टमार्टम के दौरान खोपड़ी में एक गोली मिली।

- दूसरी गोली राइट साइड में कंधे के नीचे सीने को चीरती हुई रीढ़ की हड्डी में फंसी मिली। जयदेव को आठ गोलियां मारी गईं। चेहरे के आसपास 6 गोली लगी हैं।

खुद को बचाने के लिए कर रहा था मिन्नतें
- सुरेंद्र के एनकाउंटर के बाद उसके भाई जोगेंद्र को शक था कि राहड़ा का रहने वाला जयदेव शर्मा ने पुलिस को सुरेंद्र के राहड़ा जाने की सूचना दी है।

- जयदेव बचने के लिए मिन्नतें कर रहा था। सुरेंद्र के रिश्तेदारों के पास भी परिजनों ने जाकर कहा कि जयदेव ने पुलिस को कोई सूचना नहीं दी। पंचायत करके भी मामले को निपटाने का प्रयास किया गया, लेकिन बात नहीं बन पाई।

- एसएचओ अमित कुमार ने बताया कि मामले में कुछ संदिग्धों से पुलिस पूछताछ कर रही है। हत्या में नामजद आरोपियों की तलाश के लिए उनके घर पर छापेमारी की गई। लेकिन वे घर पर नहीं मिले। जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

दोनों का था टावरों में तेल डालने का बिजनेस
- डीएसपी सिटी राजेश लोहान ने बताया कि सुरेंद्र ग्योंग और साथ जयदेव शर्मा टावरों में तेल डालने के कारोबार में पार्टनर थे।

- करीब 1 साल पहले सुरेंद्र ग्योंग मृतक के घर पर आया था। आरोप है कि वह फिरौती लेने के लिए आया था।

- पिस्तौल के बल पर उसने धमकी दी और घर पर खाना भी खाया। करीब दो घंटे बाद ग्योंग घर से चला गया था। इसकी पुलिस को सूचना दी गई थी।

- अब तक जयदेव के द्वारा सुरेंद्र ग्योंग के खिलाफ केस दर्ज कराने की बात सामने नहीं आई है। डीएसपी का कहना है कि आरोपियों की तलाश में पुलिस की 6 टीम छापेमारी कर रही हैं।

जयदेव को कुल 8 गोलियां लगी है। जयदेव को कुल 8 गोलियां लगी है।
जयदेव के परिवारवालों ने पंचायत के जरिए मामले को सुलझाने की कोशिश की थी लेकिन कामयाब नहीं हुए। जयदेव के परिवारवालों ने पंचायत के जरिए मामले को सुलझाने की कोशिश की थी लेकिन कामयाब नहीं हुए।