--Advertisement--

कपड़ों में रेत भरने से ऊपर नहीं आए डेडबॉडी, नहर बंद की तो 57 घंटे बाद मिले

मंगलवार सुबह नहर का पानी रुकने के बाद शवों की तलाश की। सुबह करीब साढ़े 9 बजे रेत में दबे सौरभ के शव काे गोताखोर का पैर

Danik Bhaskar | Jan 24, 2018, 08:31 AM IST

रोहतक. सोनीपत के रोहट में नहर में डूबे तीनों युवकों के कपड़ों में रेत भर गया था। इसके बाद शव ऊपर नहीं आ सके और रेत के नीचे ही दब गए। दिल्ली को जाने वाली पश्चिमी यमुना लिंक नहर में पानी अधिक होने की वजह से शवों को तलाशा नहीं जा सका। साेमवार को परिजनों ने जब जाम लगाया तो उसी रात 8 बजे नहर बंद कर दी गई।

मंगलवार सुबह नहर का पानी रुकने के बाद शवों की तलाश की। सुबह करीब साढ़े 9 बजे रेत में दबे सौरभ के शव काे गोताखोर का पैर लगा। इसके बाद तलाश करने पर वहां पर सौरभ का शव मिल गया। इसके बाद करीब 100 मीटर की दूरी पर रोहित तो चार किलोमीटर की दूरी पर हितेश का शव मिला। सांपला में जब तीनों दोस्तों के शव ले जाए गए तो चीख-पुकार मच गई। एक साथ तीनों दोस्तों की चिता को अग्नि दी गई। वहां लोगों ने यही कहा कि यदि पहले दिन ही नहर बंद करवा दी जाती तो शवों की 58 घंटे तक पानी में दुर्गति नहीं होती।

सीए का एग्जाम क्लीयर होने पर पार्टी करने निकले थे 5 दोस्त, चार की मौत


सांपला मेन बाजार के रहने वाले लक्ष्य, रोहित, सौरभ, हितेश और चिराग शनिवार रात मुरथल ढाबे पर पार्टी करने के लिए घर से चले थे। हितेश का सीए का एग्जाम क्लियर होने की खुशी में पार्टी दी जा रही थी। होंडा इमेज कार से रविवार रात को पांचों सोनीपत की तरफ चले तो रोहट के पास पश्चिमी यमुना लिंक नहर पर अचानक चालक सौरभ ने संतुलन खो दिया। कार रांग साइड में चली गई। आगे से ट्रक आने पर सौरभ ने बचाव का प्रयास किया। कार ने पुल की रेलिंग तोड़ दी और फिर पानी में जा गिरी। एक साइड का शीशा टूटने से चिराग पास की झाड़ी पकड़कर बच गया। लक्ष्य का अगली सुबह कार निकालते वक्त शव मिला, जबकि तीन अन्य के शव नहीं मिले। नहर में पानी कम नहीं करने पर परिजनों ने सोमवार को 3 जगह जाम लगाया। इसके बाद सोमवार रात 8 बजे नहरी पानी रोक दिया गया।

60 से अधिक गाेताखोरों ने की तलाश


मंगलवार को नहर बंद होने के बाद पता चला कि तीनों शवों के कपड़ों में रेत भरने से डेड बॉडी ऊपर नहीं आ पाई और धीरे-धीरे रेत में ही दब गई। नहर बंद नहीं होती तो शव ढूंढना मुश्किल था। सरकारी औैर आसपास के क्षेत्र के 60 से अधिक तैराक बुलाए गए। नहर का पानी दिल्ली जाने की वजह से नहर बंद करना मुश्किल पड़ रहा था। परिजनों द्वारा जाम लगाने के बाद नहर बंद करने का फैसला लिया।

सर्च अभियान के बाद बारिश आई


नहर बंद होने के बाद शव मिले। इसके बाद ही बरसात का दौर शुरू हो गया। तीनों शवों को अस्पताल पहुंचाकर पोस्टमार्टम करवाया गया। सभी का कहना था कि बारिश शुरू होने के बाद शव तलाशना मुश्किल हो जाता। काफी संख्या में खरखौदा और सांपला से लोग अस्पताल में पहुंचे थे।

चिराग को तैरना नहीं आता था, वही बचा


परिजनों ने बताया कि चिराग को ही तैरना नहीं आता था, जबकि हादसे में वही बच पाया। उसे अभी साथियों के बारे में बताया नहीं गया है।

थोड़ी दूर रेत में दबे मिले 2 युवकों के शव, तीसरा गढ़ी बिंदरोली के पास

सांपला रोहतक के युवकों की कार रोहट पुल से पश्चिमी यमुना लिंक नहर में गिरने के तीसरे दिन नहर काे पूरी तरह प्रशासन ने बंद करवाया। इसके बाद नहर में सर्च अभियान चला। हादसा स्थल से कुछ ही दूरी पर रेत में दबे दो युवकों के शव मिले, जबकि तीसरा शव चार किलोमीटर आगे गढ़ी बिंदरोली के पास मिला। अपने लाडलों के शव देखकर परिजन बिलखने लगे। प्रशासन ने शवों को अस्पताल पहुंचाकर नहर में पानी चालू करवाया। तीनों शवों का पोस्टमार्टम करवाने के बाद एक ही गाड़ी में सांपला ले जाया गया। वहां तीनों शवों का अंतिम संस्कार किया गया।

शनिवार रात को हादसा होने के बाद से सांपला में युवकों के परिजनों का बुरा हाल था। तीन दिन से शव बरामद न होने से उन्हें दिनरात नहर पर तलाश करवानी पड़ रही थी। नहर का पानी बंद नहीं होने से शवों को तलाश पाना मुश्किल हो रहा था। सोमवार को सांपला में लोगों द्वारा जाम लगाने के बाद प्रशासन ने नहर को पूरी तरह बंद करवाने के निर्देश दिए। डीसी के मकरंद पांडुरंग भी मौके पर पहुंचे। मंगलवार को सुबह 9 से दाेपहर 2 बजे तक के लिए नहर में पानी बंद करवा दिया गया। इसके बाद सर्च अभियान चला। गांवों के लोगों, युवकों के परिजनों के अलावा पुलिस व प्रशासनिक टीम ने नहर में सर्च अभियान चलाया। हादसा स्थल से कुछ ही दूरी पर रेत हटाई तो एक युवक के पैर दिखाई दिए। उसे बाहर निकाला गया। इसके पास ही दूसरे युवक का शव भी मिला। इसके बाद तलाश तेज की गई, तो चार किलोमीटर आगे तीसरे युवक का भी शव बरामद हो गया। परिजनों ने रोहित, हितेश व साैरभ के तौर पर उनकी पहचान की। हादसे में युवक चिराग नहर से बच निकला था जबकि अगले दिन दूसरे युवक लक्ष्य का शव बरामद हुआ था।