--Advertisement--

हाई रिस्क प्रेग्नेंट का बनेगा लाल कार्ड, लाइन में नहीं लगना पड़ेगा

हरियाणा हाई रिस्क प्रेग्नेंसी (एचआरपी) पोर्टल और एप शुरू किया है। हरियाणा ऐसा करने वाला देश का पहला राज्य बन गया है।

Danik Bhaskar | Jan 07, 2018, 07:45 AM IST
चंडीगढ़/ पानीपत। हरियाणा हाई रिस्क प्रेग्नेंसी (एचआरपी) पोर्टल और एप शुरू किया है। हरियाणा ऐसा करने वाला देश का पहला राज्य बन गया है। इससे एचआरपी मामलों की पहचान, उनके प्रबंधन और डिलीवरी के लिए सिविल अस्पतालों में रेफर करने में मदद मिलेगी। यह सब हाई रिस्क प्रेग्नेंसी पॉलिसी के तहत किया जा रहा है। जिन महिलाओं को डिलीवरी के समय ज्यादा खतरे की आशंका होगी, उनकी पहचान करने के साथ ही उनके लिए आगामी प्रबंध किए जाएंगे। उन्हें शुरू में ही लाल रंग का कार्ड उपलब्ध कराया जाता है। जब भी वह डॉक्टर के पास जाएगी तो उसे लाइन में नहीं लगना पड़ेगा। डॉक्टर उसे प्राथमिकता के आधार पर देखेंगे। डिलीवरी भी पीएचसी के बजाय फर्स्ट रेफरल यूनिट पर कराई जाएगी, जहां स्त्री रोग, बाल रोग विशेषज्ञ और सर्जन के साथ-साथ ब्लड आदि की सुविधाएं रहेंगी। ऐसी महिलाओं को लेबर रूम में एक सहायक रखने की भी छूट रहेगी। इससे जच्चा-बच्चा मृत्यु दर घटने का अनुमान है। प्रदेश में अभी मातृ मृत्यु दर प्रति हजार नवजातों पर 126 है।