Hindi News »Haryana »Panipat» Haryana Police Fail To Prove Culpability According To Home Ministry Report

अपराधियों पर दोष सिद्ध करने में पुलिस फेल, 2008 में 25% को मिली थी सजा, अब 12 % को ही दिला पा रहे

यह सच है कि राज्य में अपराध करने वालों को सजा दिलवाने में हरियाणा पुलिस फेल हो रही है।

मनोज कुमार | Last Modified - Jan 08, 2018, 05:19 AM IST

  • अपराधियों पर दोष सिद्ध करने में पुलिस फेल, 2008 में 25% को मिली थी सजा, अब 12 % को ही दिला पा रहे
    +2और स्लाइड देखें

    चंडीगढ़/ पानीपत.पुलिस की सुस्त कार्यप्रणाली कहें या बदमाशों की चालाकी, लेकिन यह सच है कि राज्य में अपराध करने वालों को सजा दिलवाने में हरियाणा पुलिस फेल हो रही है। अपराध का ग्राफ तो प्रदेश में बढ़ता जा रहा है लेकिन पुलिस अपराध होने के बाद बदमाशों तक नहीं पहुंच पा रही है और न ही आरोपियों को सजा दिलवा पा रही है।

    गृह मंत्रालय के आंकड़ों पर गौर करें तो नौ सालों में दर्ज मामलों में आरोपियों को सजा दिलवाने का प्रतिशत 25 से गिरकर 12 पर आ गया है। 2016 में हरियाणा पुलिस केवल 12 फीसदी केसों में ही आरोप सिद्ध कर पाई है। जबकि पुलिस महकमे में कर्मचारियों का बेड़ा 50 हजार से ज्यादा है। नौ सालों में पुलिस कर्मचारियों की संख्या भी बढ़ी है। 2008 में प्रदेश में सजा दिलवाने में देश में 10वें नंबर पर था जो 2016 में 24वें नंबर पर पहुंच गया है।

    2008 में प्रदेश में 55,344 केस दर्ज हुए थे और 14252 केस यानी 25.8 फीसदी में आरोप सिद्ध कर पुलिस बदमाशों को जेल भेजने में सफल रही थी लेकिन 2016 तक अपराध का ग्राफ तो बढ़ता गया लेकिन सजा पाने वालों की संख्या घटती चली गई। इस वर्ष 88,527 केस दर्ज किए गए। जबकि 10,971 केसों में ही पुलिस आरोप सिद्ध कर पाई। या यूं कहें कि 12.4 प्रतिशत मामलों में ही सजा दिलवा पाई। पड़ोसी राज्यों की बात करें तो हिमाचल प्रदेश में सजा दिलवाने का ग्राफ बढ़ा है। जबकि पंजाब, यूपी, राजस्थान में भले ही इनकी संख्या कम हुई है लेकिन फिर भी हमारी पुलिस से उनका काम बेहतर रहा है।

    राजधानी चंडीगढ़ में भी सजा दिलवाने के मामले में पुलिस ने पहले की अपेक्षा अच्छा काम किया है। इधर, पुलिस अफसरों का कहना है कि लोगों की ओर से केस दर्ज कराने के बाद आपस में समझौता करने से यह फर्क आया है। इसके अलावा मामलों में जांच की जाती है, इससे यह अतंर आ रहा है। क्योंकि एक साल में इतने केस दर्ज होते हैं, लेकिन सभी की जांच उसी साल पूरी नहीं हो पाती है।

    नौ साल में 1 प्रतिशत का सुधार

    हिमाचल प्रदेश: हिमाचल हरियाणा से बेहतर है। यहां 2008 में दर्ज हुए 13 हजार 976 मामलों में पुलिस 13.4% का सजा दिलाई पाई थी। 2016 में प्रतिशत बढ़कर 14.6 हो गया।

    पंजाब में भी पुलिस नहीं दिला पा रही सजा

    पंजाब: यहां 2008 में दर्ज हुए 35 हजार 314 केसों में पुलिस 20.5 % में आरोपियों को सजा दिलवाने में कामयाब रही थी। जबकि 2016 में यह करीब दो प्रतिशत गिरा।

    सजा दिलाने का ग्राफ 6% तक गिरा

    राजस्थान: यहां सजा दिलाने का ग्राफ गिरा है लेकिन हरियाणा से बेहतर है। 2008 में दर्ज हुए 1 लाख 51 हजार 1174 केसों में 24.8 फीसदी केसों में पुलिस सजा दिलवाई पाई थी।

    आधे मामलों में भी नहीं हो पा रही सजा

    उत्तर प्रदेश: यहां की स्थिति हरियाणा से अच्छी है। 2008 में दर्ज 1 लाख 65 हजार 996 केसों में से 31.7 फीसदी में पुलिस आरोपियों को सजा दिलवा पाई।

    सजा दिलाने में सक्रिय हुई पुलिस

    चंडीगढ़: चंडीगढ़ में सजा दिलवाने के केसों के प्रतिशत में बढ़ोतरी हुई। 2008 में यहां दर्ज किए गए 3931 केसों में 26.1 फीसदी में आरोपियों पर आरोप सिद्ध हुए थे।

  • अपराधियों पर दोष सिद्ध करने में पुलिस फेल, 2008 में 25% को मिली थी सजा, अब 12 % को ही दिला पा रहे
    +2और स्लाइड देखें
  • अपराधियों पर दोष सिद्ध करने में पुलिस फेल, 2008 में 25% को मिली थी सजा, अब 12 % को ही दिला पा रहे
    +2और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Haryana News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Haryana Police Fail To Prove Culpability According To Home Ministry Report
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Panipat

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×