--Advertisement--

हरियाणा में अब शूटिंग करने सिंगल विंडो पर मिलेगी सभी सुविधाएं, ऑनलाइन होंगे आवेदन

कैबिनेट की अगली बैठक में लाई जाएगी यह नीति, इंडस्ट्री से जुड़े लोगों को होगा बड़ा फायदा।

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 07:50 AM IST
नई नीति बनने से प्रदेश के लोगो नई नीति बनने से प्रदेश के लोगो

पानीपत. हरियाणा ने अपनी फिल्म पॉलिसी तैयार कर ली है। इसे कैबिनेट की अगली बैठक में लाया जाएगा। पॉलिसी में फिल्म निर्माताओं को सिंगल विंडो के तहत सभी तरह की सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। इनमें सिक्योरिटी, परमिशन और सेफ्टी प्रमुख रूप से शामिल हैं। मुंबई में बैठे फिल्म निर्माता ऑनलाइन आवेदन कर फिल्म बनाने के लिए आवेदन कर सकेंगे।

अब अलग-अलग जिलों में आवेदन करने की जरूरत नहीं पड़ेगी

फिलहाल पॉलिसी न होने से फिल्म निर्माताओं को बड़ी दिक्कत का सामना करना पड़ता है। यदि दो जिलों में फिल्म बनाने के लिए सिक्योरिटी या सेफ्टी की जरूरत होती थी तो दो जिलों में आवेदन करना पड़ता था। अब अलग-अलग जिलों में आवेदन करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। शूटिंग जोन, लोकेशन आदि की जानकारी भी सिंगल विंडो से उपलब्ध हो सकेंगी। नई नीति बनने से प्रदेश के लोगों को जहां रोजगार उपलब्ध होंगे, वहीं हरियाणवी कल्चर को बढ़ावा मिलेगा। हरियाणा के कलाकार भी आगे बढ़ सकेंगे।

ये होंगे फिल्म पॉलिसी के फायदे

नई पॉलिसी के तहत फिल्म निर्माताओं को सरकार की ओर से वित्तीय सहायता की जाएगी। फिलहाल शूटिगं पैलेस के चार्जेज फिक्स हैं। यही नहीं इससे प्रदेश में जॉब के अवसर भी पैदा होंगे, हरियाणा कल्चर के नाम पर फिल्में फिलहाल अरबों रुपए कमा रही हैं। ऐसे में हरियाणा में बॉलीवुड फिल्मों के निर्माण में तेजी आएगी और विश्व स्तर पर हरियाणा का नाम होगा। अब इसे हरियाणा में भी इंडस्ट्री का दर्जादिए जाने की योजना है। अभी हरियाणा में 171 स्क्रीन हैं, इनमें सबसे अधिक गुड़गांव, फरीदाबाद, रोहतक, सोनीपत के अलावा पंचकूला व अन्य शहर शामिल हैं।

पहाड़ी एरिया व देहात के मुख्य स्थल शूटिंग स्थल किए जाएंगे विकसित

पॉलिसी के तहत प्रदेश में कई शूटिगं स्थल विकसित किए जाएंगे। इनमें पहाड़ी एरिया के अलावा देहात के मुख्य स्थल शामिल होंगे। इनमें फिल्म सिटी, फिल्म स्डिय टू ो, शॉपिगं सेंटर आदि तैयार होंगे। मोरनी हिल्स के अलावा, बड़खल झील, कर्ण लेक, गुड़गांव, फरीदाबाद, बांगर की धरती और हरियाणा के यमुना बेल्ट के अलावा पश्चिमी हरियाणा के जिलों को शामिल किया जा सकता है।

अभी कई विभागों में पहुंचती है फाइल

फिलहाल फिल्म निर्माता को यदि हरियाणा में फिल्म बनानी होती है तो कई विभागों में चक्कर काटने होते हैं। ऐसे में काफी समय बर्बाद होता है। फाइल जिला के आला अधिकारियों के यहां जाती हैं, यही नहीं सुरक्षा आदि को लेकर काफी दिक्कत होती है। कई विभागों में चक्कर काटने की बजाए अब एक ही विंडो पर सभी तरह की सुविधाएं मिल जाएंगी। तयशुदा समय में फिल्म निर्माण को हरी झंडी मिल जाएगी।

हरियाणवी बैकग्राउंड की फिल्में मचा रही धूम

बलीवुड में हरियाणवी बैकग्राउंड की फिल्मों में काफी धूम मचाई हैं। ऐसे में कई फिल्मों ने 100 करोड़ से अधिक का कारोबार तक किया गया है। ऐसे में यदि हरियाणा में फिल्म निर्माताओं को पूरा प्लेटफार्म उपलब्ध होगा तो हरियाणा के लोगों को अपनी स्किल दिखाने का अवसर मिलेगा।

हरियाणवी कलाकारों को मिलेगा मौका

हरियाणा फिल्म पॉलिसी से हरियाणा में टूरिज्म को बढ़ावा मिल सकेगा, क्योंकि कलाकार आएंगे और यहां के लोगों को फिल्मों में काम करने का मौका मिल सकेगा। इसके लिए जनसंपर्क विभाग की टीम ने मुंबई में फिल्म निर्माताओं के साथ चर्चा की है, जबकि बिहार,यूपी सहित कई प्रदेशों की फिल्म पॉलिसी का बारीकी से अध्ययन किया गया है। ऐसा माना जा रहा है कि इस पॉलिसी के बाद टूरिज्म पॉलिसी भी बनाई जा सकती ह